तो अब इस तरह मुसीबत में फंस सकती हैं प्रियंका गाँधी!

251

प्रियंका गाँधी कांग्रेस की महासचिव हैं और पूर्वी उत्तर प्रदेश की प्रभारी है. लगातार चुनाव प्रचार कर रही हैं और चुनाव प्रचार में प्रियंका गाँधी राहुल गांधी की तरह ही मुसीबत में फंस सकती हैं. चुनाव प्रचार के दौरान लोगों को लुभाने के लिए प्रियंका गाँधी कहीं पर भी चली जाती हैं. उनके सामने बच्च्रे गंदे नारे लगाते है और तो और जहरीले साँपों कि भी अपने हाथ से पकड़ने से गुरेज नहीं करती हैं. दरअसल अब प्रियंका गांधी मुसीबत में फंस सकती है. हाल ही प्रियंका गाँधी के दो वीडियो खूब वायरल हुए थे जिसमें से एक में प्रियंका गाँधी के सामने कुछ बच्चे प्रधानमंत्री मोदी के लिए अभद्र भाषा का प्रयोग कर रहे हैं और प्रियंका गाँधी पहले हंसती हैं और फिर अपने मुंह पर हाथ रखती हैं फिर बच्चों को ऐसा नहीं करने के लिए कहती हैं. इस दौरान प्रियंका गाँधी अमेठी के चुनाव प्रचार में काम में लगी हुई थी. अब इस मामले को राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग ने संज्ञान में लिया है और प्रियंका गाँधी को नोटिस जारी किया है .

जो वीडियो सामने आया है उसमें प्रियंका गांधी वाड्रा की मौजूदगी में बच्चे अपमानजनक टिप्पणी और अपमानजनक भाषा का इस्तेमाल करते हुए नारे लगा रहे हैं। आयोग ने बच्चों के नाम और पता, वे कहां नारे लगा रहे थे, बच्चों को वहां कैसे लाया गया इस बारे में 3 दिन के भीतर जानकारी मांगी है। आयोग ने इसकी जानकारी चुनाव आयोग को भी दे दी है. दूसरा मामला भी प्रियंका गाँधी के चुनाव प्रचार से ही जुड़ा हुआ है. प्रियंका गाँधी का एक और वीडियो सामने आया जिसमें वे एक सपेरे से चुनाव प्रचार के दौरान ही बातचीत कर रही हैं और साँपों के साथ खेल रही हैं.. हालाँकि सुरक्षाकर्मियों द्वारा मना किये जाने पर भी प्रियंका नहीं मानी और वे साँपों के साथ खेलती रही.. अब इस मामले को लेकर पेटा ने आपत्ति जताई है ये संस्था जीव जंतुओं के संरक्षण के लिए काम करती है. दरअसल प्रियंका गाँधी ने सापों के साथ खेलते हुए फोटो भी खिंचवाई जिसे पेटा अब चुनाव आयोग का उल्लंघन बता रही है. चुनाव आयोग के मुताबिक़ चुनाव प्रचार में किसी जानवरों का इस्तेमाल नहीं किया जा सकता. अब कांग्रेस का कहना है कि प्रियंका गाँधी प्रचार नहीं कर रही थी वे बस संपेरों से मुलाकात कर रही थी.

अब अमेठी से चुनाव लड़ रही बीजेपी की प्रत्याशी स्मृति ईरानी ने प्रियंका वाड्रा की इन हरकतों पर कहा कि आप पहले बच्चों को राजनीति के लिए इस्तेमाल नहीं कर सकते क्या श्री मति वाड्रा को ये भी नहीं पता.. आप बच्चो को क्या संस्कार देंगे.. मैं सभ्य परिवार से आग्रह करती हूँ कि वी अपने बच्चों को इससे दूर रखे... एक और ट्वीट करते हुए स्मृति इरानी ने कहा कि हर दिन अपने संस्कार का परिचय देती श्रीमती वाड्रा। गालियाँ कम थी जो अब समर्थकों से जानवर तक बुलवा रही हैं प्रधानमंत्री जी को।’

लेकिन वहीँ प्रियंका गाँधी का कहना है कि वीडियो एडिट किया गया है. बीजेपी वालों ने किया है.. मैंने बच्चों को रोका था. हालाँकि अब प्रियंका गाँधी की मुश्किलें कितनी बढ़ने वाली है ये तो वक्त बताएगा लेकिन उत्तर प्रदेश की राजनीति बड़ी दिलचस्प होती जा रही हैं. महागठबंधन बनाने वाले लोग अब आपस में ही लड़ रहे हैं. सपा-बसपा कांग्रेस को बीजेपी का समर्थन करने वाला बता रहे हैं तो कांग्रेस सपा बसपा को बीजेपी से डरा हुआ बता रही हैं… लेकिन प्रियंका गाँधी ने ये जरूर कहा है कि उन्होंने ऐसे उम्मीदवार जरूर उतारे हैं जो बीजेपी का वोट काटेंगे? तो क्या मतलब अब कांग्रेस उम्मीदवार बन गये वोटकटवा उम्मीदवार!