जन्मदिन के ख़ास अवसर पर इस राज्य का मुख्यमंत्री अस्पताल पहुंच खुद बन गया डॉक्टर और मरीजों को लिखी दवा

कोरोना ने इस समय दुनियाभर के देशों को हिलाकर रख दिया है. हर दिन हजारों की संख्या में मरीज बढ़ते जा रहे हैं और सैंकड़ों लोग अपनी जान दे रहे हैं. कहीं से भी इस बीमारी को लेकर राहत की खबर नहीं आ रही है. अगर मोदी सरकार ने समय के चलते लॉकडाउन का फैसला नही लिया होता तो आज परिणाम और भी भयावह हो सकते थे.

जानकारी के लिए बता दें देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने खुद जनता से आग्रह किया कि वो लॉकडाउन का पालन करें और घर में ही रहें साथ ही आसपास के लोगों से संपर्क न साधें. ये लॉकडाउन का ही प्रभाव है जो भारत के कई राज्य कोरोना मुक्त हो गये हैं. उनमें भारत का गोवा भी शामिल है. गोवा ऐसा राज्य है जहाँ हर दिन हजारों पर्यटक घूमने के लिए आता था. इसी लॉकडाउन के बीच गोवा के सीएम प्रमोद सावंत का जन्मदिन भी था.

गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत ने कोरोना के चलते अपना जन्मदिन बेहद ही ख़ास तरीके से मनाया. उन्होंने जन्मदिन के दौरान ऐसा काम किया कि आज जमकर तारीफ़ हो रही है. जी हाँ राजनीति में व्यस्त होने से पहले आयुर्वेदिक डॉक्टर रहे प्रमोद सावंत ने जन्मदिन के दौरान अस्पताल पहुंचकर कोरोना महामारी के बीच फ्रंट लाइन पर काम रहे डॉक्टरों के साथ एकजुटता दिखाते हुए मरीजों को देखा और उनके लिए दवा भी लिखी.

गौरतलब है कि सावंत ने इस मौके पर कहा कि ”आज मेरा जन्मदिन है, लेकिन मैंने फैसला किया कि इसका जश्न नहीं मनाऊंगा। मैं मुख्यमंत्री हूं, लेकिन पेशे से मैं एक आयुर्वेदिक डॉक्टर हूं. स्वास्थ्य कर्मियों और फ्रंटलाइन वॉरियर्स के साथ एकजुटता दिखाने के लिए मैंने आधा दिन असिलो अस्पताल में बिताने का फैसला किया। मैं आयुर्वेदिक ओपीडी में बैठा और डॉक्टर समीर से कहा कि आज मैं सभी मरीजों को देखूंगा। 2008 के बाद पहली बार ऐसा करके मुझे अच्छा लगा.”