दिल्ली में कोरोना बेकाबू, प्रगति मैदान और ताल कटोरा स्टेडियम को अस्पताल बनाने की तैयारी

345

लाख कोशिशों के बाद भी दिल्ली में कोरोना से हालत बिगते ही जा रहे हैं. मरीजों की संख्या 30 हज़ार को पर कर चुकी है. हर दिन 1000 मरीज बढ़ रहे हैं. इन सबके बीच दिल्ली के अस्पतालों की अव्यवस्था भी सामने आ रही है. उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने ये कह कर सनसनी मचा दी कि जुलाई तक दिल्ली में कोरोना के साढ़े 5 लाख मामले हो सकते हैं. इन सबके बीच दिल्ली सरकार ने हालात सँभालने की तैयारियां भी शुरू कर दी है. प्रगति मैदान और ताल कटोरा स्टेडियम को अब अस्पताल में तब्दील करने की तैयारी की जा रही है ताकि बढ़ते मरीजों को संभाला जा सके.

दिल्ली सरकार के एक पैनल ने सुझाव दिया है कि प्रगति मैदान, तालकटोरा स्टेडियम जैसी जगहों को कोरोना वायरस रोगियों के लिए बना देना चाहिए. दिल्ली में हर दिन हज़ार के करीब मामले सामने आ रहे हैं. अस्पताल भी भर चुके हैं. इसलिए शायद मुख्यमंत्री अर्विद्न्ब केजरीवाल ने ऐलान किया था कि दिल्ली के अस्पतालों में सिर्फ दिल्ली वालों का ही इलाज होगा. लेकिन उपराज्यपाल अनिल बैजल ने मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल के फैसले को पलट दिया और कहा कि दिल्ली सबकी है इसलिए यहाँ सबका इलाज होगा.

इन सब के बीच दिल्ली में कोरोना के कम्युनिटी स्प्रेड को लेकर भी सियासत शुरू हो गई. उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि केंद्र सरकार नहीं मानती दिल्ली में कोरोना का कम्युनिटी स्प्रेड हो रहा है जबकि दिल्ली सरकार को लगता है कि दिल्ली में कोरोना का कम्युनिटी स्प्रेड होने लगा है. ऐसा लग रहा है कि लॉकडाउन में छूट दिल्ली को भारी पड़ने लगी है.