लेखा जोखा में आज पोस्टमार्टम मोदी सरकार के रेलवे का…

2712

अभी कुछ साल पहले तक भारतीय रेल की खस्ता हालत पर बातें होती रही हैं. बातें क्या होती थीं साहब, चुटकुले बनते थे. कभी सफाई का मुद्दा सामने आता, तो कभी खाने पर सवाल उठते. कभी ट्रेन घंटों लेट हुई, तो कभी किसी दूसरी दिक्कत ने रुलाया. हाल इतना बुरा था कि लगता ही नहीं था सुधार भी होगा.

लेकिन पिछले कुछ वक़्त में, रेलवे की हालत में बहुत सुधरी है. भारतीय रेल ने अपनी कोशिशों से जनता की सोच को गलत साबित किया और शानदार बदलाव कर दिखाए. पुरानी ट्रेनों की हालत तो सुधरी ही, साथ ही बहुत सी नई ट्रेनें भी चलीं, जो बहुत सुविधाजनक है, और सफाई व तकनीक के मामले में विदेशों को टक्कर देती हैं.

आज हम आपको ऐसी ही कुछ आधुनिक भारतीय ट्रेनों के बारे में बताने जा रहे हैं जिन्होंने भारतीय रेलवे की तस्वीर ही बदल दी.

1.हमसफ़र एक्सप्रेस-

देश की पहली हाई स्पीड इलेक्ट्रिक ट्रेन है हमसफ़र एक्सप्रेस. साल 2018 में 10 अप्रैल को पीएम मोदी ने इस ट्रेन को हरी झंडी दिखाई. ट्रेन में जीपीएस, चार्जिंग पॉइंट, एलईडी डिस्प्ले स्क्रीन, सीसीटीवी कैमरा, और हर सीट के लिए रीडिंग लाइट जैसी बहुत सी आधुनिक सुविधाएं हैं.

Source- youtube

इस एसी 3 टियर कोच ट्रेन के इंटीरियर पर एंटी-ग्राफिटी विनाइल की कोटिंग है. इसमें चाय, कॉफ़ी और सूप वेंडिंग मशीन, स्मोक डिटेक्शन सिस्टम, रेफ्रीजरेटर और ओवन जैसी और भी कई सुविधाएं हैं.

2. तेजस एक्सप्रेस-

22 मई 2017 को मुंबई से चली थी भारत की पहली हाई स्पीड ट्रेन तेजस एक्सप्रेस… इसका निर्माण कपूरथला कोच फैक्ट्री में हुआ है… ये एक आधुनिक तकनीक से लैस ट्रेन है.

Source- deccan odyssey

आटोमेटिक दरवाजों वाली इस ट्रेन में, हर यात्री के लिए एक अलग एलसीडी स्क्रीन मौजूद है. इसमें स्मोक डिटेक्टर, डिजिटल डिस्प्ले बोर्ड, चाय-कॉफ़ी वेंडिंग मशीन, बायो वैक्यूम टॉयलेट, हैण्ड ड्रायर और एग्जीक्यूटिव क्लास मौजूद है.

3. ग्लास रूफ विस्टाडोम कोच ट्रेन-

कांच की छत और बड़ी साइड विंडो वाली पहली ‘ग्लास रूफ’ विस्टाडोम कोच ट्रेन यात्रियों को रास्ते की खूबसूरती दिखाती चलती है.

Source-DNA India

इसमें हैंगिंग एलसीडी स्क्रीन, मिनी-पैंट्री, मिनी-फ्रिज, आटोमेटिक डोर, बायो-वैक्यूम टॉयलेट और साथ ही 360 डिग्री मूवेबल सीटें मौजूद हैं… आधुनिकता के पैमाने पर यह ट्रेन हर तरीके से खरी उतरती है.

4. डबल डेकर UDAY एक्सप्रेस-

डबल डेकर होने के अलावा इसमें और भी कई तरह की आधुनिक सुविधाएं हैं.

Source-Tnh global

यह एक एयर-कंडीशन्ड एक्सप्रेस है. इसमें जीपीएस, वाई-फाई इंफोटेनमेंट सिस्टम, और फूड वेंडिंग मशीन हैं. ट्रेन में फ़ूड कोर्ट, एक मिनी पैंट्री और कोच में एंटी-ग्राफिटी विनाइल रैपिंग भी है.

5. महामना एक्सप्रेस-

मेक इन इंडिया और भारतीय रेलवे की एक नई मिसाल है महामना एक्सप्रेस. इसका नाम पंडित श्री मदन मोहन मालवीय के नाम पर रखा गया है. खूबसूरत डिजाईन और बेहतरीन सर्विसेज वाली ये ट्रेन पहली बार नई दिल्ली और वाराणसी के बीच चली.

Source-financial express

ट्रेन में एर्गोनॉमिक सीढ़ियां, FIRE EXTINGUISHER, LED BERTH INDICATOR, SIDE BERTH SNACK TABLE, चार्जिंग पॉइंट, इलेक्ट्रिक चिमनी वाली पैंट्री कार, ODOUR CONTROL TOILETS, EXHAUST FANS और बड़े आईनों जैसी बहुत सी फैसिलिटीज हैं…

6. अंत्योदय एक्सप्रेस-

देश की पहली पेंट लेस ट्रेन है अंत्योदय एक्सप्रेस. स्टेनलेस स्टील के डिब्बों वाली यह ट्रेन, तांबरम से तिरुनेलवेली के बीच चलती है.

Source- the queue info

गद्दीदार सीटों वाली इस ट्रेन में, सामान रखने की रैक, दो चार्जिंग पॉइंट, वाटर डिस्पेंसर, फायर एक्सटिंग्विशर और डस्टबिन भी है. मजेदार बात ये है कि आप इस ट्रेन के सभी कोच जनरल कोच हैं, और आप इसमें रिजर्वेशन नहीं करा सकते. इस ट्रेन में बिना रिजर्वेशन जो सर्विसेज मिल रही हैं, वो पहले रिजर्वेशन में भी नहीं मिलती थीं.

7. गतिमान एक्सप्रेस-

ये देश की पहली सेमी हाईस्पीड ट्रेन है. इसे भारत की सबसे तेज़ ट्रेन भी कहा जाता है. इसे साल 2016 में शुरू किया गया. इस ट्रेन में एयरलाइन की तरह खाना सर्व करने के लिए स्टाफ ऑन-बोर्ड है. इसमें 8 AC चेयरकार कोच हैं और दो एक्जीक्यूटिव चेयर कार कोच.

Source- news18

ट्रेन में वेज और नॉनवेज दोनों मेन्यू मौजूद हैं. इसके अलावा आटोमेटिक फायर अलार्म, इमरजेंसी ब्रेकिंग सिस्टम, स्लाइडिंग डोर, फ्री वाई-फाई, बायो-टॉयलेट और हर सीट के पीछे 8-इंच एलसीडी जैसी खासियतें हैं.

8. बंधन एक्सप्रेस-

भारत और बांग्लादेश के बीच चलने वाली बंधन एक्सप्रेस सच में ख़ास है. साल 1965 की लड़ाई के बाद लगभग 50 सालों के बाद यह सर्विस फिर से शुरू की गई है.

Source- Outlookindia

इसके अलावा बस कोलकाता-ढाका मैत्री एक्सप्रेस एक ऐसी ट्रेन है, जो इन दोनों देशों के बीच चलती है.

9. ट्रेन-18-

ये देश की पहली इंजन रहित ट्रेन है. ट्रेन-18 पूरी तरह से भारत में डिजाइन हुई और बनी पहली ट्रेन है. चेन्नई की इंटीग्रल कोच फैक्ट्री में बनी इस हाई टेक ट्रेन में 16 AC कोच हैं. सफल ट्रायल रन के बाद इसे कमर्शियल रन की मंजूरी मिल गई है.

Source-Swarajya

भारतीय रेल को आधुनिक बनाने में इस ट्रेन की बड़ी भूमिका है… इस ट्रेन में सफर करने वालों को बहुत सी बेहतर सुविधाएं दी जायेंगी…

कुल मिलाकर भारतीय रेल की स्थिति दिन पर दिन सुधर रही है. भारतीय रेलवे जनता को ज्यादा से ज्यादा सुविधाएं देने की कोशिश कर रहा है. उम्मीद है कि ट्रेन से सफ़र करने वाली जनता की जो दिक्कतें अभी बाकी हैं, आने वाले समय में वो सब भी ख़त्म हो जायेंगी.

अधिक जानकारी के लिए देखिये हमारा विडियो…