POK के लोग बोले- “ऐसा लग रहा था कि भारतीय सेना सब कुछ बर्बाद कर देगी”

281

भारतीय सेना की तरफ पाकिस्तान पर एक बार फिर बड़ी कार्रवाई की गयी है. सर्जिकल स्ट्राइक, एयर स्ट्राइक के बाद एक बाद फिर सेना पाकिस्तान पर स्ट्राइक किया गया है. जब भारतीय सेना के गोले पीओके में गिर रहे थे.. उस समय पीओके में रहने वाले आम नागरिक भी डर गये थे. दरअसल पाकिस्तान की तरफ से संघर्षविराम का उल्लंघन किया गया और जम्मू कश्मीर के तंगधार सेक्टर में गोलीबारी की गई. इस घटना में दो भारतीय जवान शहीद हो गए जबकि एक नागरिक की मौत हो गई.. दरअसल इसी गोलीबारी की आड़ में पाकिस्तानी सेना आत्कियों को सीमा पार करवाना चाहती थी.. लेकिन भारतीय सेना ने पाकिस्तान को जब जवाब देना शुरू किया तो पाकिस्तान में हाय तौबा मच गया. भारतीय सेना ने रविवार को पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) में चार आतंकी शिविरों पर हमला कर उसे नष्ट कर दिया। जिसमें कम से कम छह से दस पाकिस्तानी सैनिक ढेर हो गए.. इस बार ये हमला सीमा पार करके नही बल्कि भारतीय सीमा में रहते हुए ही किया गया… इस बार भारतीय सेना ने बड़े हथियारों का प्रयोग किया जिसकी पाकिस्तान को उम्मीद नही थी.

इसके बाद पीओके में हडकम्प मच गया. हथियारों की गूंजती आवाजे और ढहते आतंकी लांच पैड पीओके के आम लोगों में घबराहट भर दी थी. पीओके के स्थानीय निवासियों ने कहा, जिस तरह से हमले हो रहे थे, ऐसा लग रहा था जैसे भारतीय सैनिक यहां की हर चीज तबाह कर देंगे। हालांकि, भारतीय सेना ने आबादी वाले इलाकों को निशाना नहीं बनाया। चश्मीदीदों ने कहा, सेना के गोले आतंकियों के लॉन्च पैडों पर आसमानी शोलों की तरह बरस रहे थे. कई निवासियों ने सोशल मीडिया पर भारतीय सेना की कार्रवाई का वीडियो भी अपलोड किया है। निवासियों का दावा है कि भारतीय सेना ने खास तरह का गोला बारूद का इस्तेमाल किया. दरअसल जिस हथियार की बात ये लोग कर रहे हैं इसे ट्रेसर एम्युनिशन कहते हैं.

गोले में इसी का इस्तेमाल किया गया है, जो बारूद के जरिए धमाका करती है. रतीय सेना द्वारा की गई जवाबी कार्रवाई में 6 से 10 पाकिस्तानी सैनिक मारे गए और 4 आतंकी शिविर नष्ट कर दिए गए. हालांकि पाकिस्तान आंकड़ों में भी खेल कर रहा है. उसने आतंकियों को आम नागरिकों की तरह पेश किया है और सैनिकों के मारे जाने का आंकड़ा भी 1-2 ही बताया है. हालाँकि भारतीय ने जिस तरह से पाकिस्तान को जवाब दिया है उससे तो ये अंदाजा आसानी से लगाया जा सकता है कि भारत अब बचाव की भूमिका में नही है अब अगर सीजफायर का उल्लंघन किया जायेगा तो पाकिस्तान को इसका जवाब मिलेगा.

जनरल विपिन रावत ने कहा कि सेना को सूचना मिली थी कि आतंकवादी अग्रिम इलाके में कैंप के करीब आ रहे हैं. पिछले एक महीने में गुरेज, केरन, माचिल सेक्टरों और पीर पंजाल के दक्षिण में बार-बार घुसपैठ की कोशिशें की गईं. पाकिस्तानी सैनिक आतंकवादियों को घुसपैठ कराने के लिए संघर्षविराम का उल्लंघन कर रहे थे. उन्होंने कहा, ‘त्यौहार का मौसम आने वाला है, दीपावली नजदीक है. ऐसे में हमें संकेत मिला था कि पीर पंजाल के उत्तर में कुछ आतंकी कैंप सक्रिय हैं. आतंकवादी इन कैंपों में आए थे और वे घुसपैठ करने वाले थे. वे घुसपैठ करने का प्रयास करते इससे पहले ही हमने आतंकी कैंपों को निशाना बनाने का फैसला किया’