भूटान दौरे पर है PM मोदी, किये इन समझौते पर हस्ताक्षर

1117

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शनिवार सुबह दो दिनों की यात्रा पर भूटान पहुंचे. यह प्रधानमंत्री की भूटान की दूसरी यात्रा है और दोबारा प्रधानमंत्री बनने के बाद पहली यात्रा है. भूटान के प्रधानमंत्री लोटे शेरिंग ने हवाई अड्डे पर मोदी का भव्य स्वागत किया, और आगमन पर उन्हें गार्ड ऑफ ऑनर भी दिया गया. इस यात्रा के दौरान दोनों देशों के बीच आपसी संबंधों सहित साझा हित से जुड़े विषयों पर व्यापक चर्चा होगी. प्रधानमंत्री मोदी भारतीय समुदाय के लोगों से मिले और इस दौरान ‘भारत माता की जय’ और ‘मोदी जिंदाबाद’ के नारे भी लगे. प्रधानमंत्री का स्वागत करने के लिए लोग भारतीय तिरंगा और भूटान के झंडे लिए हुए पारो से राजधानी थिम्पू के रास्ते में लाइनों में खड़े थे.

दौरे से पहले मोदी ने ट्वीट करके कहा था कि, भूटान के नेतृत्व के साथ बातचीत सार्थक रहेगी और इससे दोनों देशों की मित्रता और मजबूत होगी. दूसरे कार्यकाल के शुरुआत में इस यात्रा से पता चलता है कि भारत अपने पड़ोसी भूटान के साथ संबंधों को कितनी अहमियत देता है. प्रधानमंत्री ने कहा कि मैं द्विपक्षीय संबंधों के तमाम पहलुओं पर भूटान नरेश, पूर्व नरेश और वहां के प्रधानमंत्री के साथ सार्थक बातचीत को लेकर उत्सुक हूं. मुझे विश्वास है कि इस यात्रा से भूटान के साथ हमारी मित्रता और मजबूत होगी, जिससे दोनों देशों के बीच समृद्धि और प्रगति का मार्ग प्रशस्त होगा.

प्रधानमंत्री ने रविवार को भूटान के रॉयल विश्वविद्यालय के छात्रों को भी संबोधित किया और कहा कि, “भारत और भूटान एक दूसरे की परंपराएं समझते हैं. मैं आज भूटान के भविष्य के साथ हूं. आपकी ऊर्जा महसूस कर सकता हूं. मैं भूटान के इतिहास, वर्तमान या भविष्य को देखता हूं तो मुझे दिखता है कि भारत और भूटान के लोग आपस में काफी परंपराएं साझा करते हैं. भूटान के युवा वैज्ञानिक भारत आकर अपने लिए एक छोटा सैटेलाइट बनाने पर काम करेंगे. उन्होंने आगे कहा कि,इस विजिट में मुझे भूटान के लोगों से मिलने का मौका मिला. आज भारत ऐतिहासिक बदलावों को देख रहा है.” 5 प्रोजेक्ट का उद्घाटन भी किया जायेगा. जिसमें इसरो के ग्राउंड स्टेशन और मंगदेछु पनबिजली परियोजना शामिल हैं. हाइड्रो पॉवर प्रोजेक्ट, नॉलेज नेटवर्क, मल्टी स्पेशलिएटी हॉस्पिटल, स्पेस सैटेलाइट, रूपे कार्ड के इस्तेमाल समेत 9 समझौते पर हस्ताक्षर हुए. प्रधानमंत्री मोदी इससे पहले भूटान के प्रधानमंत्री डॉ. लोते शेरिंग से संसद में मिले थे. प्रधानमंत्री मोदी अपनी यात्रा के दौरान भूटान नरेश जिग्मे खेसर नामग्याल वांगचुक और भूटान के चौथे नरेश जिग्मे सिग्ये वांगचुक से मुलाकात करेंगे.