कोरोना संकट पर पीएम मोदी ने देश को संबोधित करते हुए किया ये बड़ा ऐलान

2261

पूरी दुनिया समेत देश में कोरोना के बढे खतरे में मद्देनज़र प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज देश की जनता को संबोधित किया और उनके मन में उठ रहे डर और आशंकाओं को दूर करने का प्रयास किया. पीएम मोदी ने कोरोना के कारण उत्पन्न हुए संकट और चुनैतियों का जिक्र करते हुए जनता का सहयोग माँगा और उन्हें आश्वस्त किया कि अगर हम मिल कर सावधानियां बरतें तो कोरोना को हरा सकते हैं.

पीएम मोदी ने कहा कि कोरोना वायरस ने पूरी मानव जाति को संकट में डाला है. उन्होंने कहा कि इन दो महीनों में भारत के 130 करोड़ नागरिकों ने कोरोना वैश्विक महामारी का डटकर मुकाबला किया है, आवश्यक सावधानियां बरती हैं. लेकिन इससे निश्चिंत नहीं हुआ जा सकता. इसलिए इस रविवार 22 मार्च को सुबह 7 बजे से रात 9 बजे तक सभी देशवासियों को जनता कर्फ्यू का पालन करना है. जनता कर्फ्यू मतलब जनता खुद अपनी मर्जी से घरों में रहे. बिना वजह बाहर ना निकले. उन्होंने कहा कि कोरोना से निपटने के लिए संयम से काम लेना होगा और संयम का तरीका है- भीड़ से बचना, घर से बाहर निकलने से बचना. आजकल जिसे Social Distancing कहा जा रहा है, कोरोना वैश्विक महामारी के इस दौर में, ये बहुत ज्यादा आवश्यक है. इसलिए जनता रविवार को जनता कर्फ्यू का पालन करे.

पीएम मोदी ने कहा कि 22 मार्च को हमारा ये प्रयास, हमारे आत्म-संयम, देशहित में कर्तव्य पालन के संकल्प का एक प्रतीक होगा. 22 मार्च को जनता-कर्फ्यू की सफलता, इसके अनुभव, हमें आने वाली चुनौतियों के लिए भी तैयार करेंगे. उन्होंने लोगों से अपील की कि हर व्यक्ति प्रतिदिन कम से कम 10 लोगों को फोन करके कोरोना वायरस से बचाव के उपायों के साथ ही जनता-कर्फ्यू के बारे में भी बताए. ये जनता कर्फ्यू एक प्रकार से हमारे लिए, भारत के लिए एक कसौटी की तरह होगा.

पीएम मोदी ने देश की अंता से अपील की कि अफवाहों पर ध्यान न दें और ना ही अफवाह फैलाएं. देश में खाने पीने के सामानों की कोई किल्लत नहीं है. इसलिए घर में सामान जमा ना करें.