दिग्विजय सिंह के वोट ना डालने पर PM मोदी ने कसा करार तंज

293

भई पता नहीं इस बार का लोकसभा चुनाव जाते जाते और क्या क्या दिखायेगा,कल यानि बीते रविवार को देश में 7 राज्यों की 59 सीटों पर छठे चरण की वोटिंग हुई..तो कल आपने देखा ही होगा कि इन चुनावों में कई बड़े नेताओं के साथ साथ बड़े सिलेब्रिटीज ने भी अपना अपना वोट डाला, लेकिन कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह इस बार के लोकसभा चुनाव में ज्यादा बिजी होने के कारण अपना वोट नहीं दे पाए..ये बात हम यूँ ही नहीं बों रहे बल्कि खुद दिग्विजय सिंह ने कहा था कि मै पूरी कोशिश करुगा कि मैं राघौगढ़ जाकर अपना वोट डालू ,पर ऐसा हो नहीं पाया क्यों की वो भोपाल में ही इतना बिजी रहे पूरा दिन कि उनको वोट डालने का टाइम ही नहीं मिला ,ये बात उन्होंने खुद मीडिया को बताई कि मै वोट देने नहीं जा सका और मुझे इसका दुख है..अगली बार मैं अपना नाम भोपाल में दर्ज करवा लूंगा..


बस उनको ये बयान आते ही pm मोदी ने उसको लपक लिय अरे मतलब ने पकड़ लिया ,कि दिग्गी रजा वोट डालने नहीं जा पाए फिर क्या चुनाव प्रचार करने रतलाम में आए मोदी ने कहा, जब देश लोकतंत्र का पर्व मना रहा है,और अपना प्रतिनिधि चुन रहा है, यहाँ तक मैं खुद अहमदाबाद गया था अपना वोट डालने के लिए, राष्ट्रपति एवं उपराष्ट्रपति भी वोट डालने के लिए कतार में खड़े थे पर एक दिग्गी राजा है, उनको न लोकतंत्र की चिंता थी, न नागिरकों के कर्तव्य की चिंता थी और न मतदाताओं की चिंता थी, इसलिए उन्होंने वोट डालने की जरूरत भी नहीं समझी,यहाँ दिग्विजय सिंह ने खुद मौका दिया तो pm मोदी कैसे इचे रह सकते थे चुटकी लिए बिना, वैसे एक बात तो माननी होगी pm मोदी की के अपने नेताओं के साथ साथ वो विपक्षी नेताओं की एक्टिविटी पर भी इतनी व्यस्तता होने के बाद पैनी नजर बनाये रखते है,कि कौन क्या कर रहा है और कौन क्या कह रहा है.पर ये बात तो गलत है एक तरफ ये नेता मंचों पर चढ़ कर अपील करते है, गाव ग़ाव घुमते है लोगों को जागरूक करने के लिए ,यहाँ तक awarness कैंप चलते है जागरूकता के लिए की वोट का महत्त्व समझो वोट करो और खुद ये वोट डालने जाते नहीं है ,अब विपक्षी पार्टी को घेरने का मुद्दा दोगे तो वो तो घेरेगी ही,और सवाल भी उठायेगी ही कि लोकसभा के महापर्व में मतदान क्यों नहीं किया..अब pm मोदी ने तो चुटकी लेते हुए तंज कस दिया उसके बाद लोगों ने भी दिग्गी राजा को नहीं बक्शा ,उन्होंने भी लताड़ने में देर नहीं लगाई दिग्गी राजा को ,

जैसे ही ani ने अपने twitter पर दिग्विजय सिंह का ये स्टेटमेंट ट्वीट किया ,उसके तुरंत बाद इस पर रिएक्शन आना शुरू हो गयी ,एक यूजर लिखती है You don’t deserve to be a leader. You are setting very bad example here,
तो दुसरे यूजर लिखते है He had the time to do havan with Computer Baba, force police to wear saffron scarves, arrest people who raised Modi slogans but he found no time to vote. Not the Neta Bhopal deserves.
तो वही एक और यूजर लिखते है ये जनाब………
वोट दे पाएं या न दे पाएं ,,,
चुनाव जरूर लड़ना है,आगे आप खुद ही पढ़ लीजिये
दूसरा ब्याह जरूर करना है ?
तो वही एक निर्भय सिंह नाम के एक यूजर लिखते है ,
चिचा का प्रचार 9 लोगो के साथ
और खुद भी वोट नही डाला!
क्योंकि नाम ही रजिस्टर नही था
फिर चुनाव हार गए तो EVM दोषी है!
तो एक सुल्तान नाम के यूजर लिखते है वे deserve प्रज्ञा ठाकुर.
वैसे नर्मदा की परिक्रमा नंगे पैर कर सकते है ,क्यों की जब तो वोट बैंक तैयार करना होता है पर ३ घंटे की ड्राइव करके के दीगी राजा वोट डालने नहीं जा सकते ये क्या बात हुई.अब आपका क्या सोचना है इस बारे में हमे जरूर बताये.