जिस वक्त राहुल गाँधी ‘ चौकीदार चोर है’ के लिए माफ़ी मांग रहे थे, उस वक्त पीएम मोदी क्या कर रहे थे?

जिस वक्त सुप्रीम कोर्ट चौकीदार चोर है पर फैसला सुना रहा था उसी वक्त प्रधानमंत्री मोदी ब्रिक्स सम्मलेन में हिस्सा लेने ब्राजील पहुंचे हुए थे. इस बैठक में हिस्सा लेने से पहले आये हुए राष्ट्रप्रमुखों का स्वागत किया गया. ब्राजील के राष्ट्रपति जायर बोलसोनारो ने भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग, रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन, दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रपति सिरिल रामाफोसा का महल में स्वागत किया जो कि ब्राजील के विदेश मंत्रालय का मुख्यालय है. ब्रिक्स बैठक में ब्राजील, रूस, इंडिया, चीन और दक्षिण आफ्रीका शामिल है. इस बैठक में प्रधानमंत्री मोदी ने पूरेविश्व को आतंकवाद के कबाड़ चेताया और आतंकवाद से होने वाले नुकसान को लेकर ब्रिक्स देशों को आगाह किया. वहीँ प्रधानमंत्री मोदी ने अपने प्लान को भी दुनिया के सामने रखा है.. आइये हम आपको बताते है कि आखिर प्रधानमंत्री  ने ब्रिक्स बैठक के दौरान किन किन मुद्दों पर अपनी बात रखी है.

(Osaka – Japão, 28/06/2019) Presidente da República, Jair Bolsonaro, durante foto de família dos Líderes dos BRICS. Foto: Alan Santos / PR

    इस बैठक के दौरान प्रधानमंत्री ने कहा कि वैश्विक आर्थिक मंदी के बावजूद ब्रिक्स राष्ट्रों (ब्राजील, रूस, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीका) ने आर्थिक विकास को गति दी है. साथ ही लाखों लोगों को गरीबी से बाहर निकाला है. यहां ब्रिक्स बिजनेस फोरम को हिंदी में संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा, ब्रिक्स राष्ट्रों की विश्व के आर्थिक विकास में 50 प्रतिशत हिस्सेदारी है.उन्होंने कहा, “वैश्विक मंदी के बावजूद ब्रिक्स राष्ट्रों ने आर्थिक विकास को गति दी है. लाखों लोगों को गरीबी से बाहर निकाला है और प्रौद्योगिकी और नवाचार में नया मुकाम हासिल किया है. ब्रिक्स की स्थापना के 10 साल बाद अब यह एक ऐसा फोरम बन गया है जहां हम अपने भविष्य के प्रयासों पर चर्चा कर सकते हैं.” वहीँ प्रधानमंत्री मोदी ने आगे कहा कि दो दिवसीय 11वें ब्रिक्स सम्मेलन का हिस्सा बन कर खुश हैं. मोदी ने आगे कहा, “पांच राष्ट्रों के बीच टैक्स और कस्टम्स प्रक्रियाएं आसान हो रही हैं. बौद्धिक संपदा अधिकारों और बैंकों के बीच आपसी सहयोग से व्यापारिक माहौल भी आसान हो रहा है. मैं ब्रिक्स बिजनेस फोरम से अनुरोध करता हूं कि इस प्रकार उत्पन्न अवसरों का पूरा लाभ उठाने के लिए आवश्यक व्यावसायिक पहलों का अध्ययन करें.” मोदी ने कहा, “देशों के बीच पर्यटन, व्यापार और रोजगार पाने के अवसरों को आसान बनाने की संभावनाएं हैं.

मैं ब्राजील के राष्ट्रपति का शुक्रिया अदा करना चाहता हूं, जो उन्होंने भारतीयों के लिए वीजा-मुक्त प्रवेश की सुविधा शुरू करने का फैसला लिया.  भारत राजनीतिक स्थिरता, अनुमानित नीति और आर्थिक-अनुकूल सुधारों की वजह से दुनिया का सबसे अधिक निवेश-अनुकूल अर्थव्यवस्था है. हम भारत को साल 2024 तक पांच ट्रिलियन डॉलर अर्थव्यवस्था वाला देश बनाना चाहते हैं.” मतलब प्रधानमंत्री मोदी पांच ट्रिलियन वाली बात यहाँ भी दोहराते दिखाई दिए. हालाँकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ब्राजील में 11वें ब्रिक्स शिखर सम्मेलन में शिरकत करने के बाद बृहस्पतिवार देर रात स्वदेश रवाना हो गए.. इसके बाद प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट कर लिखा कि प्रधानमंत्री ने ट्वीट किया, ‘ब्राजील में ब्रिक्स शिखर सम्मेलन बहुत ही सार्थक रहा। हमने व्यापार, नवोन्मेष, प्रौद्योगिकी एवं संस्कृति के क्षेत्रों में संबंधों को मजबूत करने के लिए उपयोगी बातचीत की। भावी विषयों पर ध्यान देने से निश्चित ही सहयोग और गहरा होगा जिससे हमारे संबंधित देशों के लोगों को लाभ होगा.’
यहाँ आपको जानकारी के लिए बता दे कि पहले ब्रिक्स का नाम BRIC था क्यों‍कि इसकी शुरुआत ब्राजील, रूस, भारत, चीन के साथ हुई थी, लेकिन बाद में इसमें दक्ष‍िण अफ्रीका को भी शामिल किया गया. हर साल ब्रिक्स देशों का सालाना सम्मेलन होता है जिसमें इनके शीर्ष नेता शामिल होते हैं. पिछला यानी 10वां BRICS समिट 8 जनवरी, 2018 को दक्ष‍िण अफ्रीका में हुआ था.

Related Articles