इमरान खान का भारत से बराबरी करने का सपना बस सपना बनकर ही रह जाएगा

404

पाकिस्तान को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की दिन पर दिन विश्व स्तर पर बढ़ रही लोकप्रियता पच नहीं रही है और पीएम मोदी की लोकप्रियता को देखकर पाकिस्तान बोखलाया हुआ है. पाकिस्तान के मंत्री अपना गुस्सा निकालने का कोई मौका नहीं छोड़ रहे है. अमेरिका के ह्यूस्टन में 22 सितंबर को पीएम मोदी ने राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के साथ एनआरजी स्टेडियम में howdy modi कार्यक्रम को संबोधित किया था. इस कार्यक्रम का अमेरिका में रहने वाले 50 हजार से अधिक लोग हिस्सा बने थे. लेकिन पाकिस्तान के विज्ञान और तकनीक मंत्री चौधरी फवाद हुसैन इस मेगा शो से इतना खिसिया गए कि उन्होंने इस शो को फ्लॉप बता दिया. फिर क्या हमेशा की तरह उनका सोशल मीडिया पर मज़ाक बन गया.

फवाद हुसैन ने ट्वीट करके कहा कि लाखों रुपये खर्च करने के बाद भी मोदी जनता का निराशाजनक शो. ये लोग सिर्फ यही कर सकते हैं यूएसए, कनाडा और दूसरी जगहों से लोगों को इकट्ठा कर सकते हैं, लेकिन यह दिखाता है कि पैसों से सब कुछ नहीं खरीदा जा सकता. इसके साथ हुसैन ने #ModiInHouston हैशटैग का भी इस्तेमाल किया. फवाद हुसैन जी क्यों हमेशा पैसों के लिए रोते रहते हो? हमारे पास पैसे तो है खर्च करने के लिए. तुम्हारे तरह भिकारी नही है. तुम्हारे प्रधानमंत्री इमरान खान ने तो चाय पे रोक लगा दी. वैसे ये पहली बार नही है जब पाकिस्तानी मंत्री ने विवादित बयान दिया हो. इससे पहले भी फवाद हुसैन चंद्रयान-2 पर विवादित ट्वीट कर चुके हैं. जिसके बाद उनका सोशल मीडिया पर जमकर मज़ाक उड़ाया गया था. पाकिस्तान दुसरो का मज़ाक तो उड़ा लेता है लेकिन अपने गिरेबान में कभी नही झांकता. जो पूरी दुनिया में उसकी बेज्ज़ती होती है वो उससे नही दिखता.

अभी हाल ही में ही देख लीजिए जब अमेरिका पहुँचने पर जहाँ एक तरफ प्रधानमंत्री मोदी का भव्य स्वागत हुआ वहीं दूसरी तरफ पाकिस्तानी प्रधानमंत्री की बेज्ज़ती हो गई. इमरान खान जब सऊदी विमान से न्यूयॉर्क पहुंचे तो उनके स्‍वागत के लिए कोई बड़ा अमेरिकी अधिकारी मौजूद नहीं था. गौर करने वाली बात ये भी है कि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के हवाई जहाज की सीढ़ियों के बाद लगभग 1 फुट का रेड कार्पेट बिछाया गया था. वहीं, जब पीएम मोदी ह्यूस्टन स्थित जॉर्ज बुश अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर पहुंचे तो वहां उनका शानदार स्वागत हुआ. इसे लेकर इमरान का सोशल मीडिया पर जमकर मजाक भी उड़ाया गया. 

एक यूजर ने उनका मज़ाक उड़ाते हुए लिखा कि क्या यह डोरमैट इसलिए लगाया गया है, ताकि इमरान खान अपना पैरों को पोंछने के बाद ही अमेरिका के जमीन पर कदम रखें?

एक अन्य यूजर ने लिखा कि ऐसा लग रहा है कि ये सभी लोग जो वह इमरान खान के स्वागत के लिए आये है वो एक ही विमान से आए और फिर हाथ मिलाने के लिए लाइन में लग गए.

आपको बता दे कि इमरान खान के स्वागत के लिए बस पाकिस्तान के ही कुछ अधिकारी आये थे. इससे पाकिस्तान के लोगों के ज़हन में ये सवाल उठना लाज़मी है कि इमरान खान के स्वागत में अमेरिका का कोई अधिकारी क्यों नही आया? और इससे ये भी साफ़ पता चलता है कि भारत से बराबरी करने का सपना देखने वाले इमरान खान का ये ख़्वाब एक ख़्वाब ही बन कर रह जाएगा.