आख़िर क्यों PM मोदी ने कहा मुझे गालियों की आदत है ?

465

लोकसभा चुनाव 2019 अपने आखिरी दौर में चल रहा है। अब सिर्फ दो चरण का मतदान ही शेष रह गया है। आखिरी दो चरण के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ताबड़तोड़ रैलियां कर रहे हैं।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को पश्चिम बंगाल के बंकुरा के बाद पुरुलिया में चुनावी सभा को संबोधित किया. प्रधानमंत्री के निशाने पर ममता बनर्जी रहीं और भाई हो भी क्यों ना क्योंकि दीदी ने इतना कुछ जो बोल दिया है प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक रैली के दौरान। दीदी ने जहाँ एक और प्रधानमंत्री मोदी को expiry प्रधानमंत्री कहा, वही दूसरी ओर ममता दीदी ने 7 मई को पुरुलिया में कहा था कि पैसा मेरे लिए मायने नहीं रखता।

मोदी यहां आकर मेरी पार्टी पर तोलाबाजी और लुटेरे होने का आरोप लगा रहे हैं। मैं उन्हें लोकतंत्र का थप्पड़ मारना चाहती हूं।। इसके बाद रैली को सम्बोधित करने के दौरान उन्होंने बोला मैं तो मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को दीदी कहकर आदर देता हूं। वह मुझे थप्पड़ मारना चाहती हैं तो वह भी खा लूंगा। यह मेरे लिए आशीर्वाद होगा। इतना ही नहीं pm मोदी ने बोला कि दीदी कितनी परेशान हैं, उसका अंदाजा उनकी भाषा से लगाया जा सकता है। वे अब मेरे लिए पत्थरों और थप्पड़ों की बात करती हैं। मुझे तो गालियों की आदत है, लेकिन बौखलाहट में दीदी देश के संविधान का भी अपमान कर रही हैं।

ममता बनर्जी पर हमला करते हुए पीएम ने कहा कि केंद्र सरकार बंगाल के अधिकारियों के साथ बैठक करना चाहती थी, लेकिन दीदी ने मना कर दिया. ममता बनर्जी का ये अहंकार ही उन्हें ले डूबेगा. उन्होंने कहा आगे कहा कि ‘’ TMC की सरकार ऐसी सरकार है, जहां पर भगवान का नाम लेने वाला भी परेशान है. मुझे दीदी के गुस्से की चिंता नहीं है, क्योंकि देशवासी मेरे साथ हैं. दीदी को उन राम भक्तों, सरस्वती भक्तों और दुर्गा भक्तों की चिंता करनी चाहिए, जिनको वह पूजा नहीं करने दे रही हैं.  दीदी के दिल में घुसपैठियों के लिए और विदेशी कलाकारों के लिए ममता है, लेकिन हमारे सपूत जो राष्ट्र रक्षा में अपनी भूमिका निभा रहे हैं, उनके लिए कोई ममता नहीं है’’

Image result for मोदी रैली इन पुरुलिया

आगे pm मोदी बोलते हैं ममता दीदी अपने देश के प्रधानमंत्री को प्रधानमंत्री मानने के लिए तैयार नहीं हैं, लेकिन पाकिस्तान के प्रधानमंत्री को प्रधानमंत्री मानने में उन्हें गौरव का अनुभव होता है .आपको बता दें कि बंगाल में अभी तक हुए हर चरण के चुनाव में हिंसा देखने को मिली है, पांचवें चरण में भी बंगाल की कई सीटों पर मतदान होना है. बीजेपी इस बार बंगाल में कमल खिलाने की पूरी कोशिश कर रही है तो वहीं ममता बनर्जी की तरफ से बीजेपी को रोकने की पूरी कोशिश की जा रही है.