पीएम मोदी ने मुस्लिमों से की अपील रमजान में ज्यादा करें ये काम ताकि ईद से पहले कोरोना मुक्त हो जाये दुनिया

दुनियाभर के देशों की तमाम कोशिशों के बावजूद भी कोरोना का कहर थम नहीं रहा है. हर दिन कोरोना के मरीजों की रफ़्तार काफी तेजी से बढ़ रही है. दुनियाभर के देश इस बीमारी का इलाज ढूढ़ने में लगे हुए हैं न ही इसकी दवा बनी है न ही कोई वैक्सीन तैयार हुई है जिससे लोगों को इस बीमारी से बचाया जा सके. हर देश इस बीमारी की दवा बनाने में लगा हुआ है लेकिन कहीं से भी राहतभरी खबर नही आ रही है. अब आयुर्वेद भी इसकी दवा खोजने में लगा हुआ है.

जानकारी के लिए बता दें पीएम मोदी भी खुद जनता से लगातार संवाद कर रहे हैं और आग्रह कर रहे हैं कि लोग अपने-अपने घरों में ही रहें जिससे इस महामारी से बचा जा सके. साथ ही उन्होंने ये भी बताया है कि लॉकडाउन के अलावा भारत के पास कोई और विकल्प इस समय नही है और ये लॉकडाउन का ही प्रभाव है जो आज भारत की स्थिति अन्य देशों के मुकाबले काफी बेहतर है. पीएम मोदी मन की बात के जरिये लोगों से मन की बात कहते रहते हैं और अपील करते रहते हैं.

रविवार को पीएम मोदी ने मन की बात के जरिये कई बड़ी बात कही. इस दौरान उन्होंने रमजान के पवित्र महीने में मुस्लिमों से अपील की है कि ‘साथियो, रमजान का भी पवित्र महीना शुरू हो चुका है। अब अवसर है इस रमजान को संयम, सद्भावना, संवेदनशीलता और सेवा-भाव का प्रतीक बनाएं। इस बार हम, पहले से ज्यादा इबादत करें ताकि ईद आने से पहले दुनिया कोरोना से मुक्त हो जाए.’

गौरतलब है कि उन्होंने अपनी बात आगे रखते हुए कहा कि ‘कोई अपनी पूरी पेंशन, पुरस्कार राशि को पीएम केयर्स में जमा करा रहा है. कोई खेत की सारी सब्जियां दान दे रहा है, कोई मास्क बना रहा है. कहीं मजदूर भाई-बहन क्वरंटाइन बाद स्कूल की रंगाई-पुताई कर रहे हैं.’ उन्होंने कहा है कि हमारे किसान भाई-बहनों को ही देखिये. वो इस समय खेतों में दिन रात मेहनत कर रहे हैं और दूसरी तरफ ये भी सोच रहे हैं कि देश में कोई भी भूखा न सोये.