3 मई के बाद लॉकडाउन बढेगा या हटेगा, आज होगा फैसला, मुख्यमंत्रियों के साथ पीएम मोदी आज करेंगे मंथन

3287

लॉकडाउन ख़त्म होने की समयसीमा 3 मई है. लेकिन उसके बाद क्या होगा? क्या लॉकडाउन को हटाया जाएगा या फिर आगे बढाया जाएगा. इस बात को लेकर आज पीएम मोदी और सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों के बीच महत्वपूर्ण बैठक होने वाली है. ये बैठक वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये होगी. जब पहली बार 24 मार्च को देशव्यापी लॉकडाउन का ऐलान पीएम मोदी ने किया था तब देश में कोरोना के 500 मामले थे लेकिन उसके बाद से अब तक लॉकडाउन के बावजूद कोरोना के 26 हज़ार मामले देश में हो हो चुके हैं. 800 लोगों की मौ’त हो चुकी है. लॉकडाउन के दौरान कोरोना में मामलों में तेजी से वृद्धि हुई. महाराष्ट्र, गुजरात, राजस्थान, दिल्ली और मध्य प्रदेश कोरोना के सबसे बड़े हॉटस्पॉट बन कर उभरे. ऐसे में 3 मई के बाद क्या कदम उठाये जाएँ इसी को लेकर पीएम मोदी आज सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ मंथन करेंगे.

लॉकडाउन के दौरान कई तरह की दिक्कतें आती रही है. कहीं मजदूरों की भीड़ ने लॉकडाउन का उल्लंघन किया तो कहीं मुसलमानों ने लॉकडाउन की धज्जियाँ उड़ाई. कहीं डॉक्टरों और पुलिसकर्मियों पर हमले हुए. लॉकडाउन के दौरान सबसे बड़ी समस्या प्रवासी मजदूरों की रही. फैक्ट्रियां और तमाम तरह के कामकाज बंद हो जाने से उन्हें रोजगार का संकट तो उत्पन्न हुआ ही. दिहाड़ी मजदूरी करके अपना जीवन यापन करने वाले इन मजदूरों के सामने पैसों का भी संकट उत्पन्न हुआ. हालाँकि राज्य सरकारें ये दावा करती रही की उन्होंने प्रवासी मजदूरों के लिए कम्युनिटी किचेन और शेल्टर होम बनाये है. लेकिन इन दावो के बावजूद जिस तरह दिल्ली, गुजरात और महाराष्ट्र के शहरों में भयावह नज़ारा दिखा उसने राज्य सरकारों के दावों की खिल्लियाँ ही उड़ाई है. अगर 3 मई के बाद लॉकडाउन बढाने पर आज सहमती होती है तो प्रवासी मजदूरों के मुद्दे पर जरूर चर्चा होगी.

हालाँकि राज्य सरकारों को पहले से ही अंदेशा हो गया है कि लॉकडाउन को बढ़ाना ही पड़ेगा. इसी वजह से कई राज्य अलग अलग राज्यों में फंसे अपने लोगों को बसों के जरिये निकाल रहे हैं. कई राज्यों ने कोटा में फंसे अपने अपने छात्रों को स्पेशल बसें भेज कर घर बुलाया. तो कई राज्यों ने मजदूरों को भी निकालना शुरू कर दिया है. उद्धव ठाकरे ने तो मह्दूरों को घर भिजवाने के लिए स्पेशल ट्रेन चलवाने की मांग की है. इस मीटिंग कई राज्य स्पेशल पैकेज की मांग कर सकते हैं.