पीएम मोदी ने अजमेर शरीफ दरगाह को भेजी चादर और अपने संदेश में कही ये ब’ड़ी बा’त

525

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप अभी हाल ही में 2 दिवसीय दौरे के लिए भारत आए थे. उनके भारत आने को लेकर पिछले काफी समय से तैयारियां चल रही थी. 24 और 25 फरवरी को भारत आए डोनाल्ड ट्रंप ने भी नहीं सोचा होगा कि भारत में उनका स्वागत इतने भव्य तरीके से किया जायेगा. ट्रंप की मेहमानवाजी में पीएम मोदी ने कोई कमी नहीं छोड़ी, यही वजह है कि ट्रंप भारत यात्रा से गदगद होकर गये हैं. पीएम मोदी ट्रंप की भारत यात्रा को लेकर काफी समय से व्यस्त थे ताकि दोनों देशों के बीच कई अहम समझौते हो सकें.

जानकारी के लिए बता दें ट्रंप के वापस अपने देश जाने के बाद 26 फरवरी को पीएम मोदी ने अजमेर के ख्वाजा मोईनुद्दीन चिश्ती के 808 वें उर्स के मौके पर बड़ा कदम उठाया है. इस ख़ास मौके पर पीएम मोदी ने अजमेर शरीफ दरगाह के लिए चादर भेजी. इतना ही नहीं उन्होंने चादर के साथ अपना एक सन्देश भी भेजा जिसे हर किसी को जानना चाहिए.

पीएम मोदी ने अपने संदेश में लिखा कि “ख्वाजा मोईनुद्दीन चिश्ती के 808 वें उर्स के अवसर पर विश्वभर में उनके अनुयायिओं को बधाई एवं शुभकामनाएं.  दुनिया को मानवता का संदेश देने वाले महान सूफी संत के वार्षिक उर्स पर दरगाह अजमेर शरीफ पर चादर भेजते हुए मैं उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित करता हूँ.” पीएम मोदी ऐसे खास मौकों को कभी नहीं भूलते हैं चाहें वो किसी भी धर्म से जुड़ा हुआ क्यों हो.

गौरतलब है कि पीएम मोदी ने अपने संदेश में आगे लिखा था कि “भारत समृद्ध आध्यात्मिक परम्पराओं का देश है और हमारे देश के सूफी-संतों ने अपने आदर्शों और विचारों के माध्यम से राष्ट्र के सांस्कृतिक ताने-बाने को सदैव मजबूत करने का प्रयास किया है.  शांति और एकता का उनका पैगाम हमें जीवन में अनुशासित, शालीन और संयमित रहने की सीख देता है.” आगे पीएम मोदी ने लिखा कि “सद्भावना और सौहार्द के आदर्श प्रतीक के रूप में ख्वाजा मोईनुद्दीन चिश्ती की दरगाह दुनिया भर से विविध आस्थाओं और मान्यताओं के लोगों को अपनी ओर आकर्षित करती है. अनेकता में एकता हमारे देश की खूबसूरती है और सालाना उर्स इसी भावना को संजोने, सहेजने और महसूस करने का अवसर है. ख्वाजा मोईनुद्दीन चिश्ती के 808 वें उर्स पर मैं दरगाह अजमेर शरीफ से देश की समृद्धि की कामना करता हूँ.” बता दें पीएम मोदी द्वारा भेजी गयी चादर को केंद्रीय अल्पसंख्यक मंत्री मुख़्तार अब्बास नकवी ने अजमेर में पेश किया.