वाराणसी में CAA पर PM मोदी का बड़ा ऐलान

1134

नरेंद्र मोदी अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी में हैं. मोदी भगवान शिव के भक्त है और उनके दर्शन करने के लिए जाते रहते है. आज भी वो अपने संसदीय क्षेत्र के दौरे पर हैं.  दूसरी बार प्रधानमंत्री की कुर्सी पर प्रचंड बहुमत के साथ सत्ता की कुर्सी पर काबिज होने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दूसरी बार वाराणसी पहुंचे और वहां पर उनका स्वागत उत्तर प्रदेश के यस्शवी सुख्यामंत्री योगी आदित्यानाथ और गवर्नर आनंदीबेन पटेल लेने पहुंती थी. वहां पहुँचे के बाद नरेंद्र मोदी कई करोड़ो की योजनाओं का लोकार्पण करेगें और साथ-साथ ही कई कार्यक्रम में भी हिस्सा लेंगे. उसके बाद नरेंद्र मोदी शैव समुदाय से जुड़े जंगमवाड़ी मठ पहुंचेंगे.

इस कार्यक्रम के बाद मोदी चंदौली के पड़ाव में ‘पंडित दीन दयाल उपाध्याय की 63 फीट ऊंची प्रतिमा का अनावरण करेंगे. बता दे कि जनसंघ को स्थापित करने में अहम भूमिका निभाने वाले संस्थापकों में से एक रहे दीन दयाल उपाध्याय की याद में दीन दयाल उपवन बनाया गया है. हमने अभी चर्चा की थी जंगमवाड़ी मठ जहां पर नरेंद्र मोदी कर्नाटक, महाराष्ट्र और तमिलनाडु से आए लोगों और संतों को संबोधित करते हुए तमिल, मराठी, कन्नड़ और हिंदी भाषा में अपनी बात बोलेंगे. मोदी ने लोगों से ये संकल्प लेने को कहा कि वे अपने आचरण और विचार से राष्ट्र निर्माण के लिए काम करते रहेगें. पीएम मोदी ने शैव समुदाय और संतों की भी जमकर तारीफ की.

अपने संसदीय क्षेत्र के दौरे पर पहुँचे नरेंद्र मोदी कई विकास योजनाओं, अस्पतालों और पर्यटन से जुड़ी योजनाओं का शिलान्यास और लोकार्पण करेंगे. देश की तीसरी कॉर्पोरेट ट्रेन महाकाल एक्सप्रेस को झंडी दिखाने के साथ ही नरेंद्र मोदी लगभग 1200 करोड़ रुपये की योजनाओं की सौगात देंगे. प्रधानमंत्री बनने के बाद से मोदी का ये पिछले छह सालों में 22वां वाराणसी का दौरा है. इस दौरान उन्होने अपने भाषण में सीएए और शाहीन बाग पर मचे बवाल को लेकर भी वाराणसी में लोगों को जागरुक करते हुए कहा कि हम सीएए और एनआरसी को लेकर अपने फैसले पर कायम रहेगें. आगे पीएम मोदी ने कहा कि आर्टिकल 370 को हटाना भी जरूरी था. हमारे ऊपर दबाव था उसके बावजूद भी हम देशहित में फैसले लेने से पिछे नही हटते हैं. मोदी ने कहा कि आपको भरोसा दिलाता हूं कि हम इन फैसलों पर आगे भी कायम रहेंगे और देशहित में और जनता के लिए जो जरूरी फैसले लेने होगें हम लेते रहेगें.

मोदी भगवान शिव के बहुत बड़े भक्त माने जाते हैं. उन्होने काशी विश्वनाथ, महाकालेश्वर, ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंगों को जोड़ने वाली काशी-महाकाल एक्सप्रेस ट्रेन को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विडियो के जरिये हरी झंडी दिखाई. 20 तारीख से चलेगी काशी-महाकाल एक्सप्रेस. मोदी ने अपने काम-काज के बारे में बताया कि 7000 करोड़ की लागत से नमामी गंगे का काम पूरा हुआ है. मोदी ने सीएए के विरोध को लेकर भी लोगों को समझाया और अपने कई काम के बारे में भी बताया.