जानिए कौन हैं 105 साल की भागीरथी अम्मा जिन्होंने इस उम्र में कर दिखाया ये कमाल, पीएम मोदी ने मन की बात में किया जिक्र

1173

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जबसे सत्ता में आए हैं तभी से वह जनता से संपर्क साधने के लिए अलग-अलग कदम उठा चुके हैं. वह पिछले काफी समय से मन की बात कार्यक्रम के जरिये अपनी बात लोगों तक पहुंचाते आ रहे हैं. रविवार को भी उन्होंने देश के साथ मन की बात करते हुए कई बड़ी बातें कही. दरअसल इस समय देशभर में बोर्ड की परीक्षाएं चल रही हैं तो उन्होंने एक किस्सा सुनाया.

जानकारी के लिए बता दें पीएम मोदी ने मन की बात कार्यक्रम में 105 वर्षीय भागीरथी अम्मा का जिक्र करते हुए किस्सा सुनाया. उन्होंने बताया कि भागीरथी ने 105 साल की उम्र में राज्य साक्षरता मिशन के तहत चौथी क्लास के बराबर की परीक्षा में हिस्सा लिया और इस परीक्षा में उन्होंने 74.4 फीसदी अंक हासिल किये. जिन भागीरथी अम्मा की बात पीएम मोदी ने की वो केरल की रहने वाली हैं.

केरल के कोल्लम की रहने वाले भागीरथी अम्मा ने इतनी उम्र में पढ़ाई करके शानदार अंक प्राप्त कर ये साबित कर दिया है कि पढ़ने लिखने की कोई उम्र नही होती. कहते हैं कि उन्हें बचपन से ही पढ़ने की काफी ललक थी. ये अधूरी इच्छा उन्होंने 105 साल की उम्र में पूरी की. इस परीक्षा को पास करने के बाद उन्होंने मीडिया से बातचीत करके बड़ी बात कही.

उन्होंने कहा कि “वह हमेशा ही पढ़ना चाहती थीं, ज्ञान अर्जन करना चाहती थीं. लेकिन, बचपन में ही मां की मौत हो जाने के कारण उन्हें अपना ये सपना छोड़ना पड़ा. मां के जाने के बाद भाई-बहनों की देखरेख की जिम्मेदारी उन पर आ गई थी.” जिम्मेदारी ने उनका कभी साथ नहीं छोड़ा, वह घर संभालती थी और उन पर दुःख का पहाड़ टूट जाया करता था. 30 साल की उम्र में पति के मर जाने के बाद बच्चों के पालन पोषण की जिम्मेदारी उनके सर पर आ गयी. ऐसे में उनके लिए पढाई के बारे में सोचना भी मुश्किल था. वह 9 साल की थी तब तीसरी कक्षा में थी तभी से उन्होंने पढ़ाई छोड़ दी और अब उन्होंने 105 साल की उम्र मिसाल कायम कर दी है.