ममता बनर्जी खेमे में मचेगी खलबली,पीएम मोदी के बयान से सियासी भूकंप

300

आपको याद ही होगा अभी कुछ दिनों पहले ही अक्षय कुमार ने PM मोदी का इंटरव्यू लिया था..अक्षय के एक सवाल पूछने पर PMने जवाव दिया था कि ममता दीदी उन्हें बंगाल से मिठाइयाँ भेजती है.. इस पर पलटवार करते हुए ममता बनर्जी ने एक रैली के दौरान प्रधानमंत्री को मिटटी और कीचड़ से सने रसगुल्ले खिलाने की बात कही थी,अब उसी बात को लेकर PM मोदी ने भी अपनी प्रतिकिरिया रखी है और कहा है कि बंगाल की पवित्र मिट्टी से बना रसगुल्ला भी उनके लिए प्रसाद की तरह होगा..वो बोले कि दीदी ने कहा है कि वो मुझे बंगाल की मिट्टी-पत्थरों से बना रसगुल्ला खिलाना चाहती हैं. वो मेरे लिए सौभाग्य की बात है बंगाल की मिट्टी का रसगुल्ला मतलब, रामकृष्ण परमहंस, स्वामी विवेकानंद, नेताजी सुभाष चंद्र बोस, जैसे महापुरुषों के पैरों की धूल, वो माटी जिन पर उनके पैर पड़े, वो माटी जिन्होंने देश को बनाने वाले ऐसे महान व्यक्तित्वों को बनाया, मुझे अब उस माटी का प्रसाद मिलेगा तो मेरा जीवन धन्य हो जाएगा.

इसके बाद pm मोदी श्रीरामपुर में रैली को आगे संबोधित करते हुए बोले कि दीदी की जमीन खिसक चुकी है और देख लेना 23 मई को जब नतीजे आएंगे तो आपके विधायक भी आपको छोड़कर भाग जाएंगे. आज भी आपके 40 विधायक मेरे संपर्क में हैं..इसके साथी हो pm मोदी ने नया नारा भी दिया है ..चुपे चाप कमल छाप बूथ बूथ से tmc साफ़ ..अब आपको बताते ही कि pm ने ऐसा इसलिए कहा क्यों की वोट डालने से tmc के कार्यकर्ता ही लोगों को रोक देते है..इसलिए ही pm ने कहा चुप चाप जाईये कमल का बटन दबाई और बूथ बूथ से tmc को साफ़ कर दीजिये

खैर PM मोदी के इस बयान के बाद तृणमूल कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता ने पीएम मोदी पर विधायकों की खरीद-फरोख्त का आरोप लगाते हुए चुनाव आयोग से इसकी शिकायत करने की बात कही है। पीएम मोदी के 40 तृणमूल विधायकों के उनके संपर्क में होने की बात कहने के बाद डेरेक ने ट्वीट किया-‘एक्सपाइरी बाबू पीएम, सीधी बात सुन लें।

कोई आपके साथ नहीं जाएगा। एक पार्षद भी नहीं। आप चुनाव प्रचार कर रहे हैं या खरीद-फरोख्त! आपके एक्सपाइरी की तारीख नजदीक आ गई है। आज हम इसकी चुनाव आयोग से भी शिकायत करेंगे।खैर 40 विधायक साथ आने की बात pm मोदी ने ही कही ही कोई छोटे मोटे नेता ने नहीं तो TMC में खलवली मचनी तो साफ़ है,और इस बयान के मायेने ये भी हो सकते है क्यों की बंगाल मे बीजेपी की पकड़ धीरे धीरे पहले से मजबूत हो रही है.. इस बात में कितनी सच्चाई है कितनी नहीं ये तो 23 MAYको सब को पता ही चल जायेगा.