पीएम मोदी के 2019 में दिए गए इंटरव्यू का पूरा लेखा-जोखा….

329

देर लगी आने में तुम को शुक्र है फिर भी आए तो

प्रधानमंत्री मोदी पर हमेशा आरोप लगते रहे है की मोदी पत्रकारों से बातचीत नहीं करते, इंटरव्यू नहीं देते, प्रेस कॉन्फ्रेंस नहीं करते, लेकिन 2019 के पहले दिन पीएम मोदी ने ANI को इंटरव्यू दिया है. ये इंटरव्यू 2019 के चुनाव को लेकर अहम माना जा रहा है. माना जा रहा है आगामी लोकसभा चुनाव में इन्हीं मुद्दों को लेकर मोदी जनता के बीच होंगे. चुनावी साल के पहले इंटरव्यू में पीएम मोदी ने क्या कुछ कहा. यहां जानिए उसकी एक झलक…

2018 को पीएम मोदी ने बताया सफल वर्ष

इंटरव्यू के दौरान पीएम मोदी ने कहा कि 2018 बहुत ही सफल वर्ष रहा है। चुनाव देश की अनेक पहलुओं में से एक छोटा सा पहलू है। आज हिन्दुस्तान में गरीब व्यक्ति को पांच लाख तक इलाज की सुविधा देने वाली आयुष्मान भारत योजना को अभी तो 100 दिन भी नहीं हुए और सात आठ लाख लोगों ने सुविधा ली है।

पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव नतीजों पर पीएम मोदी ने कहा

तेलंगाना और मिजोरम में बीजेपी सत्ता में आएगी। ऐसा कोई कहता ही नहीं था। तीन राज्यों की बात करें तो छत्तीसगढ़ में नतीजा साफ आया और बीजेपी हारी। अन्य दो राज्यों में हंग असैंबली की स्थिति रही। आप देखेंगे कि यहां हमारे लोग 15 साल की ऐंटी इन्कम्बैंसी में थे। उन्होंने हरियाणा, जम्मू-कश्मीर और त्रिपुरा में स्थानीय निकायों में बीजेपी की जीत का हवाला दिया।

मोदी लहर कम होने की बात पर मोदी जी ने कहा

मोदी ने कहा जो लोग ये कहते है कि मोदी लहर कम हो गई है, वो तो पहले ये मानते है कि मोदी लहर नाम की भी कुछ चीज है. विपक्षी ही मोदी मैजिक, मोदी लहर को मानते हैं. कुछ लोग 2013 में भी कहते थे कि मोदी कुछ नहीं कर सकते, वही कुछ लोग आज भी यही कह रहे हैं. लहर सिर्फ जनता की आशा, आकांक्षा और विश्वास की होती है.

राजनीतिक पंडितों द्वारा 2019 के चुनाव में कम सीटे मिलने पर पीएम मोदी ने कहा

राजनीतिक पंडितों द्वारा 2019 में बीजेपी के 180 से ज्यादा सीटें न पाने के दावे को पीएम मोदी ने पूरी तरह खारिज कर दिया और कहा कि 2014 के चुनाव में भी इसी तरह के दावे किये जा रहे थे. उन्होंने कहा कि ‘यह चुनाव उनलोगों के बीच है जो जनमानस की आकांक्षाओं को पूरा करने के लिए प्रयासरत हैं और जो इन्हें रोकने में लगे हुए हैं ।

कांग्रेस मुक्त भारत का मिशन हुआ अधूरा इस सवाल पर मोदी ने कहा

कांग्रेस के लोग ही कहते हैं कांग्रेस एक सोच एक कल्चर है. मुख्य धारा में लंबे समय तक एक कल्चर रहा, उसे बदलने की जरूरत है. इसमें जातिवाद, परिवारवाद, भाई भतीजावाद शामिल है. हम इसी से मुक्ति दिलाने की बात करते रहे हैं.

नोटबंदी पर पीएम मोदी ने कहा

नोटबंदी पर पीएम मोदी ने कहा कि यह झटका नहीं है. नोटबंदी अचानक नहीं थी. हमने कालेधन को लेकर साल भर पहले आगाह किया था लेकिन कम लोग आगे आए. इसके बाद भी हमने कड़े कदम उठाने की बात कही थी. हमने यह फैसला सोच-समझकर लिया था.

किसानों के मुद्दें पर पीएम मोदी ने कहा

झूठ बोलना और लोगों को भ्रमित करना एक लॉलीपोप ही है, कांग्रेस ने सभी किसानों का कर्ज माफ नहीं किया. जो बैंकों का लूटकर मौज करते थे, हम कानून बनाकर उनसे 3 लाख करोड़ वापस लाए. अगर कर्जमाफी से किसान का भला होता है तो होना चाहिए. पहले भी ऐसा हुआ है लेकिन फिर भी क्यों किसान कर्जदार होता है. किसान को मजबूत करना जरूरी है.

राम मदिंर पर अध्यादेश लाने की बात पर पीएम मोदी ने कहा

पीएम मोदी ने कहा कि राम मंदिर निर्माण के लिए कोई अध्यादेश तभी लाया जा सकता है, जब इसपर कानूनी प्रक्रिया पूरी हो जाए. राम मंदिर पर अदालती कार्यवाही में देरी को लेकर पीएम मोदी ने कांग्रेस पर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि कांग्रेस के वकील सुप्रीम कोर्ट में बाधाएं उत्पन्न कर रहे हैं, इसके चलते राम मंदिर मसले की सुनवाई की गति धीमी हो गई है. मैं कांग्रेस के वकीलों से कहना चाहूंगा कि इस मामले में अड़ेंगे डालना बंद करें और कानून को अपना काम करने दें.

ट्रिपल तलाक और सबरीमाला पर पीएम मोदी ने कहा

महागठबंधन पर पीएम मोदी ने कहा-अधिकतर इस्लामिक देशों में तीन तलाक नहीं है, यानी ये धर्म का हिस्सा नहीं है. ये सिर्फ लिंग भेदभाव का मामला है. अगर सबरीमाला की बात की जाए तो देश में कुछ मंदिर हैं जहां पुरुष नहीं जाते या महिला नहीं जाती हैं. सबरीमाला के मसले पर महिला जज की बात भी सुननी चाहिए.

महागठबंधन पर पीएम मोदी ने कहा

ये चुनाव जनता तय करेगी कि कौन देश के हित में सोच रहा है और कौन अपने बारे में..इस बार चुनाव जनता बनाम महागठबंधन के बीच होगा…महागठबंधन में जो भी पार्टीयां हैं वो एक-दूसरे को बचाने के लिए गठबंधन कर रहे है.

कांग्रेस के राफेल मुद्दें के आरोप पर पीएम मोदी ने कहा

मैंने इस मुद्दे पर संसद और सभाओं में विस्तार से बोला है. सुप्रीम कोर्ट ने भी मसला पूरा क्लियर कर दिया है, कोर्ट में दूध का दूध और पानी का पानी हो चुका है…फ्रांस के राष्ट्रपति और भारत के प्रधानमंत्री ने भी जवाब दिए हैं, सामने वाले व्यक्ति को आरोप सिद्ध करने चाहिए.

सर्जिकल स्ट्राइक पर पीएम मोदी ने कहा

सर्जिकल स्ट्राइक का राजनीतिकरण नहीं होना चाहिए. स्ट्राइक होने के बाद किसी मंत्री और प्रधानमंत्री ने बयान नहीं दिया था. सेना के अफसर ने जानकारी दी, हमने पहले पाकिस्तान को बताया फिर देश को बताया. लेकिन उसी दिन कुछ नेताओं ने शक खड़ा किया है, जो पाकिस्तान बोल रहा था वही हमारे देश के लोग भी दे रहे थे. आपने देश की सेना के लिए अनाप-शनाप बोला, पहले ही दिन बयानबाजी हुई.
पीएम मोदी ने कहा कि उरी में हुए आतंकी हमले में भारतीय सेना के कई जवानों को जिंदा जला दिया गया था. इसकी वजह से मेरे साथ-साथ भारतीय सेना के जवान भी बहुत गुस्से में थे, जिसके बाद सर्जिकल स्ट्राइक की योजना बनाई गई.

इतने अधिक विदेशी दौरे क्यों ? के जवाब पर पीएम मोदी ने कहा

सभी प्रधानमंत्रियों की इतनी ही यात्रा होती हैं, बहुत से ऐसे सम्मेलन होते हैं जिनमें जाना जरूरी होता है. अगर प्रधानमंत्री के लेवल से कम का व्यक्ति कोई जाए तो बात दब जाती है. मेरा हिसाब ये है कि अगर एक देश जाता हूं तो साथ वाले भी दो-तीन चला जाता हूं, इससे समय-पैसा दोनों बचता है. पहले जो प्रधानमंत्री जाते थे उन्हें ना कोई वहां नोटिस करता था, ना ही यहां पर नोटिस करता था.