CAA विरोध पर इशारों में बोले पीएम मोदी, देश के लिए बहुत कुछ सहना पड़ता है

1739

देश भर CAA के खिलाफ मुस्लिम और वामपंथी संगठनों के विरोध प्रदर्शन के बीच पीएम मोसी ने बड़ा बयान दिया है. उद्योग जगत के एक कार्यक्रम में पीएम मोदी ने इशारों इशारों में CAA को ऐतिहासिक फैसला बताते हुए कहा कि बहुत कुछ सहना पड़ता है, लेकिन देश के लिए करना है.

दिल्ली के विज्ञान भवन में एसोचैम के सालाना कार्यक्रम में बोलते हुए पीएम मोदी ने कहा, देश को संकटों से मुक्ति दिलाने के कार्य में बहुत से लोगों के गुस्से को सहन करना पड़ता है. कई आरोप झेलने पड़ते हैं. लेकिन देश के लिए करना है इसलिए सब मंजूर है. उन्होंने कहा, “’यह सब ऐसे ही हुआ होगा क्या? बहुत लोगों की नाराजगी मोल लेनी पड़ती है, बहुत लोगों का गुस्सा सहना पड़ता है. तरह-तरह के आरोपों से गुजरना पड़ता है. लेकिन ऐसा इसलिए संभव हो पाता है, क्योंकि देश के लिए करना है.’ उन्होंने कहा कि 70 सालों की आदत बदलने में वक़्त लगता है लेकिन देश के लिए करना है.

अपनी सरकार के ऊपर लग रहे तानाशाही के आरोपों पर भी पीएम मोदी अप्रत्यक्ष तौर पर बोले. उन्होंने कहा, “देश में ऐसी सरकार है जो सबकी सुनती है. किसान की भी सुनती है, मजदूर की भी सुनती है, व्यापारी की भी सुनती है, उद्योग जगत की भी सुनती है. उनकी आवश्यकताओं को समझने का प्रयास करती है और उनके सुझावों पर काम करती है.”

हालाँकि पीएम मोदी ने अपने संबोधन में CAA का जिक्र नहीं किया लेकिन माना जा रहा है कि उनका इशारा अप्रत्यक्ष रूप से उसी तरह था. सरकार ने जब नागरिकता संशोधन बिल को पास कराया था तब उसे अंदाजा नहीं था कि मुस्लिम संगठनों की तरफ से इस तरह की प्रतिक्रिया आएगी. हालाँकि मीडिया इसे देशव्यापी प्रदर्शन बताने की कोशिश कर रहा है लेकिन ये एक ख़ास वर्ग के गुस्से का प्रतीक बन कर रह गया है.