प्रधानमंत्री मोदी ने गिनाये विपक्षी नेताओं द्वारा दी गयी गालियाँ, बोले- ये हैं इनका सम्मान!

362

2019 लोकसभा का चुनाव मोदी बनाम पूरा विपक्ष बनकर रह गया है. पूरे विपक्ष के हर नेता के निशाने पर अगर कोई हैं तो वो हैं प्रधानमंत्री मोदी! बड़े बड़े मुद्दे पीछे रह गये हैं,, महंगाई का मुद्दा दबा हुआ है, भ्रष्टाचार का मुद्दा दबा हुआ है, विकास, शिक्षा, स्वास्थ्य सब दबे हुए है क्योंकि इन सभी मुद्दों से ज्यादा विपक्ष को जिस मुद्दे की जरूरत हैं वो है मोदी…  विपक्ष के नेता मोदी के लिए क्या क्या नही कह चुके हैं जो प्रधानमंत्री का सम्मान करने के लिए बड़ी बड़ी बातें करते हैं, नफरत को प्यार से खतम करने का दावा करते हैं उसी पार्टी के नेता प्रधानमंत्री मोदी को गाली देते हैं.. दरअसल बुद्धवार को प्रधानमंत्री हरियाणा पहुंचे थे जहाँ वे कांग्रेस पर जमकर बरसे.. उन्होंने कहा कि जो लोग पूर्व प्रधानमंत्री के अपमान की बात करते हैं ऐसे लोगों की मर्यादा तब कहाँ चली जाती हैं जब मौजूदा प्रधानमंत्री को गालियाँ दी जाती हैं.

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि मैं काग्रेस और महामिलावटी साथियों को उनकी मनमानी नही करने देता, भ्रष्टाचार को रोकता हूँ.. वंशवाद को चुनौती देता हूँ इसलिए ऐसे लोग बार बार प्रेम का नकाब पहनकर मुझे गालियाँ देते रहते हैं. गन्दी नाली का कीड़ा कहा, गंगू तेली, पागल कुत्ता कहा.. एक दूसरा नेता सामनें आये  मुझे बत्तमीज और नालायाक बेटा गया, असत्य का सौदागर बोला गया.. कांग्रेस के नेताओं ने मुझे रावण, सांप, जहर बोने वाला कहा … कांग्रेस के नेता जिनके सामने नतमस्तक हैं उन्होंने भी मुझे मौत का सौदागर कहा.. ये इनके प्यार करने का तरीका है. यही नही इनकी ख्वाहीश तो बोटी बोटी करने की भी रही हैं. खुलेआम मुझे गाली देने वाले को कांग्रेस ने आगे बढ़ाया है… इसके बाद प्रधानमंत्री मोदी ने वो गालियाँ याद दिलाई जो उन्हें प्रधानमंत्री बनने के बाद हमारे देश के माननीय नेताओं द्वारा दी गयी हैं.

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि कांग्रेस के नामदार जिस तरह अपने प्रेम की डिक्सनरी दिखा रहे हैं और कोई उनपर सावाल नही उठा रहा है इसलिए आज मैं देश के सामने सारी सच्चाई रख रहा हैं. मुझे गाली देते हुए कितनी बार मर्यादा तार तार की हैं ये भी इस डिक्सनरी से पता चलता है. मुझे बताया गया मोस्ट स्टुपिड पीएम कहा गया.. मुझे जवानों के खून का दलाल कहा गया.. गद्दाफी मुसोलिनी, हिटलर जैसे शब्द मुझे बोले गये..बड़े बड़े नेताओं ने मुझे मानशिक रूप बीमार ब्नाताया.. नीच आदमी कहा गया … यहाँ तक ये भी पूछा गया की मेरे पिता कौन थे..दादा कौन थे? ये सब उपहार मुझे प्रधानमंत्री बनने के बाद दिए गये हैं. निकम्मा, नसेड़ी, औरंगजेब से भी क्रूर, अनपढ़ गवार, नमकहराम, नालायाक बेटा, नटवर लाल, नकारा बेटा सबकुछ इन लोगों ने मेरी माँ को गाली दी.. पुछा मेरा पिता कौन है.. ये सब कहा गया मेरे प्रधानमंत्री बनने के बाद.. ये हैं इनके प्रेम की डिक्सनरी का सच.. मेरी आप सबसे यही प्रार्थना है कि कांग्रेस की इस डिक्सनरी से अपने बच्चों को दूर रखने की चिंता जरूर कीजिये.

दरअसल अपने भाषणों में राहुल गाँधी और प्रियंका वाड्रा लगातार ये कहते रहे हैं कि हम नफरत को प्रेम से जीतेंगे.. पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी पर मोदी के टिप्पणी से कांग्रेस और हमलावर हो गयी थी.. तब प्रधानमंत्री मोदी ने हरियाणा में एक रैली को संबोधित करते हुए कांग्रेस पर बड़ा हमला बोला.. यही नही इसके बाद प्रधानमंत्री मोदी दिल्ली पहुंचे जहाँ उन्होंने एक बड़ी रैली को संबोधित करते हुए अपने काम काज का हिसाब दिया.. वैसे प्रधानमंत्री मोदी को विपक्षी नेताओं ने द्वारा गालियाँ तो वाकई बहुत दी गयी है. हमें एक बात समझ लेना चाहिए कि अगर हम सम्मान चाहते हैं तो हमें सम्मान देना सीखना भी चाहिए.