पीएम मोदी ने इस वजह से 20 अप्रैल तक का दिया है वक़्त, 20 अप्रैल के बाद उठाया जाएगा ये कदम

3315

पीएम मोदी ने अपने संबोधन में 3 मई तक लॉकडाउन बढाने का ऐलान तो किया ही. लेकिन साथ ही साथ उन्होंने एक और तारीख का जिक्र किया जो देश के लिए बहुत महत्वपूर्ण है. पीएम मोदी ने अपने संबोधन में 20 अप्रैल का विशेष तौर पर जिक्र किया. उन्होंने कहा, ‘अगले एक सप्ताह में कोरोना के खिलाफ लड़ाई में कठोरता और ज्यादा बढ़ाई जाएगी. 20 अप्रैल तक हर थाने, हर जिले, हर राज्य को बारीकी से परखा जाएगा.’

उन्होंने कहा कि लॉकडाउन तो 3 मई तक बढाया गया है लेकिन 20 अप्रैल तक ये मूल्यांकन किया जाएगा कि लॉकडाउन का पालन कितनी सख्ती के साथ हो रहा है. 20 अप्रैल तक हालात की समीक्षा की जायेगी उसके बाद लॉकडाउन में ढील का फैसला लिया जाएगा. उन्होंने कहा, ‘लॉकडाउन का कितना पालन हो रहा है इसका मूल्यांकन किया जाएगा. जो सफल होंगे. जो हॉटस्पॉट नहीं बढ़ने देंगे, वहां पर 20 अप्रैल से कुछ जरूरी चीजों में छूट की अनुमति दी जा सकती है. लेकिन याद रखिए यह अनुमति सशर्त होगी. लॉकडाउन के नियम अगर टूटते हैं तो सारी अनुमति तुरंत वापस ले ली जाएगी.’

मतलब कि जो लोग अपने इलाकों में छूट की उम्मीद कर रहे हैं उन्हें 20 अप्रैल तक विशेष ध्यान रखना पड़ेगा. 20 अप्रैल तक आपके इलाकों में नए केस तभी नहीं बढ़ेंगे जब आप खुद को पूरी तरह से घर में बंद करके लॉकडाउन का पालन करेंगे. पीएम मोदी का इशारा उन खबरों की तरफ था जिसमे पिछले दिनों लॉकडाउन के उल्लंघन की खबरें सामने आई थी. 21 दिनों के लॉकडाउन के दौरान कई इलाकों में लॉकडाउन के उल्लंघन की खबरें आई थी. इसलिए पीएम मोदी ने अपने संबोधन में 20 अप्तैल का जिक्र ख़ास तौर पर किया. 20 अप्रैल तक का वक़्त देश के लिए बहुत महत्वपूर्ण है.