लोजपा में पड़ी फूट के बीच पशुपति पारस ने भंग की सभी कमेटी और अपने सांसदों को दी ये बड़ी जिम्मेदारी

154

बिहार की राजनीति में पिछले कई दिनों से सियासी भूचाल आया हुआ है. केंद्रीय मंत्री राम विलास पासवान के निधन के बाद अब उनकी पार्टी बिखरती जा रही है. चाचा पशुपति पारस ने ही अपने भतीजे चिराग पासवान के साथ जो किया है उसकी हर तरफ चर्चा हो रही है. अब लोजपा में पड़ी फूट के बीच सांसद पशुपति पारस ने बड़ा ऐलान किया है जिसे जानने के बाद चिराग को बड़ा झटका लग सकता है.

जानकारी के लिए बता दें सांसद पशुपति पारस के नेतृत्व वाले लोजपा गुट ने राष्ट्रीय, राज्य और विभिन्न प्रकोष्ठों की समितियों को भंग करने का ऐलान किया है. इतना ही नहीं उन्होंने अपने चारों सांसदों को भी बड़ी जिम्मेदारी सौंपी है. नई कार्यकारिणी के तहत सांसद चौधरी मह्बूब अली कैसर और वीणा देवी को राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और प्रिंस राज एवं चंदन सिंह को पार्टी का महासचिव घोषित किया है.

पशुपति पारस ने नई राष्ट्रीय कार्यकारिणी के गठन का ऐलान करते हुए कहा है कि लोक जनशक्ति पार्टी की जो पुरानी कमेटी थी चाहे वो राष्ट्रीय ही या प्रदेश की हो या फिर जितने भी प्रकोष्ठ हैं उन्हें तत्काल प्रभाव से भंग किया जाता है. उन्होंने आगे कहा कि नई छोटी सी कमेटी तत्काल कार्य करने के लिए बनाई गयी है जिसमें 8 लोगों को रखा गया है.

गौरतलब है कि लोजपा के 5 सांसदों ने अपनी ही पार्टी के मुखिया चिराग पासवान के साथ बड़ा खेल करते हुए उन्हें सभी पदों से हटा दिया है. चिराग पासवान के चाचा पशुपति पारस के साथ चौधरी महबूब अली कैसर, वीणा देवी, चंदन सिंह और प्रिंस राज आ गये और उन्होंने पशुपति पारस को अपना नेता चुनते हुए चिराग पासवान को बड़ा झटका दे दिया.