प’श्चिम बंगाल के बाद पालघर में ट्रेन को लेकर गु’स्साए मजदूर, उड़ी सोशल डि’स्टेंसिंग की ध’ज्जियाँ

लॉकडाउन की वजह से लाखों की संख्या में मजदूर इधर उधर फं’से हुए है. जिसकी वजह से उनके पास अब न तो कोई काम है और न ही उनके पास खाने पीने के लिए पैसे है. जिसकी कारण उनकी परे’शानियाँ और बढ़ती जा रही है. ऐसे में सरकार ने प्रवासी मजदूरों के लिए स्पे’शल ट्रेन चलाई है जिसके द्वारा मजदूरों को उनके राज्यों में भेजा जा सके. लेकिन एक बार फिर मजदूर सड़कों पर उतर के आ गये है और ये पहली बार नहीं हुआ है. इससे पहले भी सूरत में मजदूर सड़कों पर उतर आये थे.

दरअसल इस बार पालघर में मजदूर लोग सड़कों पर उतर आये है और उनका कहना है कि पालघर से अन्य राज्यों के लिए ट्रेने चल रही है लीग जा रहे है. लेकिन बिहार के लिए अभी तक कोई भी ट्रेन नहीं है. जिसके कारण अब वो सड़कों पर उतर आये है. जाहिर है लॉकडाउन होने के बाद से सभी काम काज ठ’प हो गया है. जिसके कारण उनके पास किसी भी तरीके की कोई सु’विधा नहीं रही है. जिसकी वजह सी अब न तो उनके अस कोई रो’जगार है और न ही इतने पैसे.

इसके अलावा मजदूरों का कहना है कि रोजगार न होने के कारण अब उनके पास जो जमापूं’जी थी वो भी ख’त्म होने लगी है ऐसे में उनके पास खाने पीने के लिए ज्यादा पैसे भी नहीं बचे है. जिससे उनकी मु’श्किले और बढ़ गयी है. ऐसे में अगर वो अपने घरो में पहुंच जाएंगे तो उनकी परे’शानी थोड़ी सी कम हो सकती है.

वही जब मजदूरों की सुनवाई नहीं हुई तब उनको सड़कों पर उतर कर प्र’दर्शन करना पड़ रहा है. जाहिर है मजदूरों के सामने भी बड़ी सम’स्या है और इसी सम’स्या के चलते सोशल डिस्टेंसिं’ग के नि’यमों की भी धज्जि’याँ उड़ गयी है.