पीएम मोदी के सामने क्यो गिड़गिड़ाने को मजबूर हो गए पाक पीएम इमरान खान

273

पुलवामा में हए आतंकी हमले में हमारे देश के 40 बहादुर जवानों की शहादत हो गई। जिसके बाद जांच शुरू हुई और उसमे मौके ए वारदात से मिले सबूतों से सबको पता लग गया था कि घटना के तार सीधे सीधे पाक की धरती से जुड़े हुए है। भारत ने पाक को सबूत दिए तो हमेशा की तरह पाकिस्तान ने इनको सिरे से नकारते हुए भारत को ही हमले की गीदड़भभकी दे दी.

इसके बाद एक्शन में आते हुए सरकार ने पाकिस्तान से आने वाले माल पर इम्पोर्ट ड्यूटी को 200% तक बढ़ा दिया,पानी रोकने की बात भी कह दी गयी।


सेना को खुली छूट देते हुए साफ तौर पर कह दिया कि अगर कही से एक गोली चले तो आप दो गोली चलाओ।यूएनएससी यानी विश्व सुरक्षा परिषद में भी पाकिस्तान की खूब थू थू हुई। 
अमेरिका,इजरायल,रूस ने आतंक के मसले पर भारत के साथ खड़े होने की बात कह दी।
पीएम ने भी जनता के सामने आकर कह दिया कि अब जवाब हर हाल में दिया जाएगा.

चारो तरफ से पड़ रहे दबाव के बीच अब इमरान खान का बयान सामने आया है जिसमे उन्होंने कहा है कि भारत को पाकिस्तान को शांति का एक और मौका देना चहिए। इमरान का कहना है की अगर भारत को कारवाई के उचित सबूत दे तो वो तत्काल कारवाई करेगा इमरान खान का ये बयान राजस्थान में दिए प्रधानमंत्री मोदी के भाषण के बाद आया है। जिसमे मोदी साहब ने कहा था कि आतंकवाद का समर्थन करने वाले लोगो को पूरी ताकत से कुलचने का वक्त आ गया है।
भारत को हमले की गीदड़भभकी दे चुके पाक पीएम इमरान खान अब कह रहे है की मैं पठान का बच्चा हूं, मैं सच्चा बोलता और करता हूं। इसलिए मोदी साहब को एक बार शांति का मौका देना चाहिए।

विशेषज्ञ बता रहे है कि ये मोदी सरकार की कूटनीतिक जीत है। क्योकि जिस तरह से भारत सरकार की तरफ से पाक की चौतरफा घेराबंदी की जा रही है उससे इमरान खान अब गिड़गिड़ाने को मजबूर हो गए है।
वेसे एक बात बड़ी साफ है की जैसी हरकते पाकिस्तान करता है उसको देखते हुए नापाक देश को यूँ ही गिड़गिड़ाना भी चहिए।