सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर क्या बोले ओवैसी?

3542

राम मंदिर पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला सामने आ गया है. सुप्रीम कोर्ट ने राम मंदिर बनने का रास्ता साफ़ कर दिया है..चीफ जस्टिस रजन गगोई की अध्यक्षता वाली पीठ ने इस मामले पर अपना फैसला सुना दिया है. सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में कहा कि अयोध्या की विवादित जमीन का मालिकाना हक रामलला को मिलेगा, वहीं मस्जिद के लिए उपयुक्त स्थान पर 5 एकड़ जमीन मुस्लिमों को दी जाएगी. सुप्रीम कोर्ट का फैसला सामने आने के बाद अब असदुद्दीन ओवैसी और आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत की प्रतिक्रिया सामने आ रही है.

संघ प्रमुख मोहन भागवत ने मीडिया को संबोधित करते हुए सुप्रीम कोर्ट के फैसले का स्वागत किया. संघ प्रमुख मोहन भागवत ने अयोध्या फैसले पर पर उन्होंने पूरे देश से भाईचारा बनाए रखने की अपील की. साथ ही उन्होंने कहा कि इस फैसले को जय और पराजय की दृष्टि से नहीं देखना चाहिए. उन्होंने कहा कि सभी को सुप्रीम कोर्ट के फैसले का सम्मान करना चाहिए.

वहीँ ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने तीखी प्रतिक्रिया दी है. ओवैसी ने कहा कि मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड की तरह हम भी फैसले से सहमत नहीं हैं, सुप्रीम कोर्ट से भी चूक हो सकती है. जिन्होंने बाबरी मस्जिद को गिराया, उन्हें ट्रस्ट बनाकर राम मंदिर बनाने का काम दिया गया है. ओवैसी ने कहा कि अगर मस्जिद वहां पर रहती तो सुप्रीम कोर्ट क्या फैसला लेती. यह कानून के खिलाफ है. बाबरी मस्जिद नहीं गिरती तो फैसला क्या आता है. हमें हिंदुस्तान के संविधान पर भरोसा है. हम अपने अधिकार के लिए लड़ रहे थे. 5 एकड़ जमीन की खैरात की जरूरत नहीं है. मुस्लिम गरीब हैं, लेकिन मस्जिद बनाने के लिए हम पैसा इकट्ठा कर सकते हैं.

 ये तो रही राजनीतिक बयानबाजी. वैसे सुप्रीम कोर्ट के फैसले के मद्देनजर पुख्ता तैयारी की गयी है. अयोध्या समेत सभी संवदेनशील जगहों पर पुलिस की तैनाती की गयी है बाकि राजनीति तो अब होती ही रहेगी!