भाजपा के सर्वे से विपक्षी फैला सकते है भ्रम

301

लोकसभा चुनाव अपने अंतिम दौर में है,ऐसे में हर पार्टी अपने लिए सर्वे करवाती ही है,मीडिया भी हर पार्टी के लिए अलग अलग सर्वे करती है ,कि कौन pm बनने वाला है या कौन सी पार्टी इस बार सत्ता में आएगी,अब ज्यादातर मीडिया के जो सर्वे आये है, उनमें तो यही सामने आ रहा है कि pm पद के लिए सबसे चहेता चेहरा नरेंद मोदी का है और इस बार भाजपा दुबारा सत्ता में भी आ सकती है लेकिन इन्ही सर्वेक्षणों के बीच में एक सर्वे आया है…पर उस सर्वे की रिपोर्ट से शायद आप खुद चौंक जाये , क्योंकि जो ये इस सर्वे सामने आया है इसके मुताबिक लोकसभा चुनाव में कांग्रेस भाजपा से अच्छा और शानदार PERFORMANC करती नजर आ रही है,अब आगे इस सर्वे की रिपोर्ट के बारे में बताने से पहले हम आपको बीबीसी द्वारा 2014 में किये गये एक सर्वे की रिपोर्ट के बारे में बताना चाहते है,ये सर्वे भी एक ग्राउंड रिपोर्ट के base पर बनाया गया था,कि 2014 में किसी भी तरह की कोई मोदी लहर नहीं है ,अब बीबीसी की रिपोर्ट है तो लोग तो सही मानेंगे ही,पर ये जो ग्राउंड रिपोर्ट सर्वे जहाँ किया गया था,वो जगह थी असम , त्रिपुरा , नागालैंड ,अरुणांचल प्रदेश..जहाँ २०१४ से पहले बीजेपी का बड़ा अस्तित्व नहीं था..और ऐसा ही एक सर्वे अब सामने आया है,जिसमें कांग्रेस को बढ़त पे दिखाया जा रहा है जबकि बीजेपी सिर्फ 182 सीटों पर ही सिमटा दिखाई बता रहा है, ये सर्वे तथाकथित तौर पर बीजेपी ने ही करवाया है… और इसी फीड बैक के बाद कुछ मौजूदा सांसदो का टिकट भी कटा गया, जिन से जनता खुश नहीं है या जिनके ऐरिया में काम नहीं हुआ. ये सर्वे इलेक्शन से पहले करवाया गया था ताकि बीजेपी जान सके की खा उसकी पकड़ मजबूत ही और कहा कमजोर ,इस सर्वे के मुताबिक लोकसभा चुनाव में बीजेपी अकेले सिर्फ 151 सीट ही जीत पायेगी, जबकि कांग्रेस को 141 सीट मिल सकती है. और अन्य के 144 सीट जा सकती ही हैं. सर्वे के अनुसार उत्तर प्रदेश में बीजेपी की सीटों का गणित बिगड़ भी सकता है क्यों की यहाँ सपा बसपा गठबंधन है..पर ये गठबंधन कितना प्रभाव शाली है ये तो आप सभी जानते ही है पर इसका मतलब ये तो कतई नहीं है कि कांग्रेस की पकड़ up में अच्छी है..हा बस ये हो सकता है कि पिछली बार से एक आध सीट ज्यादा मिल जाये,लेकिन बीजेपी अपने द्वारा कराये गये इस सर्वे के बाद और चौकन्नी हो गयी है वो अपने सहयोगी दलों की साथ 272 का जादुई आंकड़ा पार करने की लिए हर पूरी तरह से तैयार है.
पर सर्वे में ये तो एक तरह से साफ़ हो गया है कि पूर्ण बहुमत तो किसी भी पार्टी को नहीं मिलने वाला है .सर्वे में यूपीए भले ही अभी एनडीए से कुछ जगहों से आगे दिख रही है , लेकिन सरकार बनाने के लिए जरूरी 272 के आंकड़े से वो भी काफी दूर नजर आ रही है और ये हम इसलिए कह रहे ही क्यों की स्मृति ईरानी की अमेठी में पकड़ को बढ़ता देख ही राहुल गाँधी ने वायनाड जैसी सुरक्षित सीट से लड़ने का फैसला लिया है… लेकिन दूसरी तरफ सर्वे में ये भी साफ़ है कि क्षेत्रीय दल भी लोकसभा चुनाव में इस बार एक अहम भूमिका में है .. और निर्णायक रोल निभा सकते है, सरकार बनाने में..पर भाजपा अपने द्वारा किये इन सर्वेक्षणों के बाद वहां पर भी पकड़ बनाने के लिए रणनीति और मजबूत कर रही है जहाँ उसको अस्तित्व नहीं था,और इसका जीता जगता एक्साम्प्ल pm मोदी की केरला और वेस्ट बंगाल की रैली है.
सर्वे में देखा गया की भाजपा और कांग्रेस की बीच कांटे की टक्कर चल रही है,लेकिन भाजपा अपना दिया नारा भूली नहीं है अबकी बार 400 पार और इसी नारे के तहत ही अपनी नई रणनीति बना रही है,भाजपा की वरिष्ठ नेता पियूष गोयल ,अमित शाह राजनाथ सिंह खुद इस बार चुनाव मोर्चा संभाल कर अलग अलग राज्य में सक्रिय रूप से काम कर रहे है .
तो दूसरी तरफ सारी बिपक्षी पार्टीयों का महा गठबंधन से उनका डर साफ़ जाहिर हो रहा है भाजपा सरकार से. ऐसे में evm का मुद्दा उठाना और चुनाव आयोग पर तरह तरह के आरोप लगाना क्या उन्ही की हार का डरये कहना गलत नहीं होगा. लेकिन भाजपा द्वारा कराये इस तथाकथित सर्वे की रिपोर्ट को नागपुर टुडे में पब्लिस रिपोर्ट में भी देख सकते है..कि इस बार टक्कर तो है, पर अगर पिछली बार का आंकड़ा देखा जाये तो उत्तर प्रदेश में भी अच्छा प्रदर्शन किया था बीजेपी ने और गुजरात में (26) और राजस्थान (25) सीटें मिली थी..और मध्य प्रदेश की दो सीटें छोड़ कर और छत्तीसगढ़ की एक छोड़कर सभी भाजपा ने ही जीतीं थी.. इस बार ये आंकड़ा कितना अपने पास भाजपा रख रख पायेगी ये तो 23 मई को साफ़ हो जायेगा..और क्या पता लास्ट के बचे हुए दो फेज के चुनाव से पहले ये विपक्ष की स्ट्रैटजी हो सकती है कि जनता को भ्रमित करके कुछ वोट % बढ़ाया जा सके, लेकिन ये 23 मई को साफ हो जाएगा… कि ऐसे सो कॉल्ड सर्वे कोई असर डालते है या जनता का मूड ,क्यों की ये वो दिन है सब इन सभी पार्टियों का रिपोर्ट कार्ड हम सब की सामने आ जायेगा.