कोलकाता में ‘हाई वोल्टेज ड्रामा’ ममता ‘दीदी’ के समर्थन में उतरा विपक्षी खेमा

317

कोलकाता में चल रही राजनीतिक खींचातानी बढती ही जा रही है ..वही रविवार की शाम पश्चिम बंगाल के कोलकाता में हाई वोल्टेज ड्रामा उस वक्त देखने को मिला जब (सीबीआई) के 5 अधिकारी चिटफंड स्कैम के सिलसिले में पूछताछ के लिए कोलकाता के पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार के घर पहुंचे… जिसके बाद कोलकाता पुलिस सीबीआई अफसरों को ही हिरासत में लेकर के थाने ले गई..उसके बाद ममता बनर्जी सीबीआई की पूछताछ के खिलाफ धरने पर बैठी हैं..पर ऐसे में ममता बनर्जी अकेले नहीं है.. उनके साथ देने विपक्ष का पूरा खेमा उतर आया है …आइये आपको समझाते है कैसे विपक्ष इसे ममता के खिलाफ राजनीतिक साजिश बता रहा है ..वही कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी बताते है कि उन्होंने ममता बनर्जी से फोन पर बात की और उनके लिए अपना समर्थन देते हुए कहा कि पूरा विपक्ष एकजुट है और यह फासीवादी ताकतों को हराएगा… उन्होंने ये आरोप लगाया कि पश्चिम बंगाल की घटनाये प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एवं भाजपा के द्वारा किये जा रहे हमलों का हिस्सा है…और कांग्रेस कंधे से कंधा मिलाकर ममता के साथ है.

वहीं तेजस्वी ने ट्वीट करते हुए कहा, कि भाजपा के दबाव में सीबीआई द्वारा पिछले कुछ महीने में लिए गए राजनीतिक फैसलों को देखते हुए.. राज्य सरकारें इस तरह का कदम उठाने के लिए मजबूर है… अगर सीबीआई भाजपा की गठबंधन सहयोगी की तरह काम करना जारी रखेगी तो उसे लोगों के गुस्से का सामना करना पड़ सकता है। कोई भी इस लोकतंत्र में जनता से ऊपर नहीं है….वही इसमे दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल भी पीछे नहीं रहे उन्होंने कहा, की मैंने ममता दीदी से बात की और अपनी एकजुटता जाहिर की.. मोदी-शाह दोनों की कार्रवाई पूरी तरह से अजीब और अलोकतांत्रिक है….

खैर केजरीवाल तो ऐसा बोलेंगे ही क्यों की उनको बंगाल में रैली के लिए इजाजत मिल गयी है ..वही दूसरी तरफ up के cm योगी आदित्यनाथ समेत बीजेपी के नेताओं को रैली के इजाजत नहीं दी गयी …अब ये बढती लोक प्रियता का डर है या कुछ और है …लेकिन अगर देखा जाये तो ये भी एक अलोकतांत्रिक डिसिशन है ..ये हम नहीं बल्कि खुद पश्चिम बंगाल के राज्यपाल बोल रहे है …उन्होंने एक इंटरव्यू के दोरान कहा कि लोकतंत्र है तो राजनितिक कार्यकम होंगे ही ..यह लोकतान्त्रिक अधिकारों का हिस्सा है …सभी पोलिटिकल पार्टियों की भावनाओ को ध्यान में रखते हुए ..लोकतान्त्रिक अधिकारों का पालन करना चाहिए …उन्हें रैलियों के लिए रोकना उचित नहीं है …

वैसे प.बंगाल की सीएम ममता बनर्जी सरकार और सीबीआई के बीच छिड़ी जंग के मामले में कांग्रेस भी दो भागों में बंटी दिख रही है.. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी जहां सीएम ममता बनर्जी के साथ खड़े दिख रहे हैं, वहीं प.बंगाल से ही कांग्रेस सांसद अधीर रजंन चौधरी उनके खिलाफ बयानबाजी कर रहे हैं… उन्होंने बड़ा बयान देते हुए कहा है कि, ममता बनर्जी डाकुओं और चोरों के साथ खड़ी हैं…इसके अलवा भी लोगों ने राहुल गांधी की इस पोस्ट पर उन्हें खूब ट्रोल किया है.