कल नहीं होगी निर्भया के दो’षि’यों को फां’सी, एक बार फिर कोर्ट ने लगाईं डे’थ वा’रंट पर रोक

2745

निर्भया गैं’गरे’प के’स और ह’त्या के दो’षि’यों को कल फां’सी होनी तय थी लेकिन ऐसा हुआ नहीं है. तीसरा डेथ वारंट भी ख़ारिज हो गया है. कोर्ट ने फां’सी को तीसरी बार फिर से टाल दिया है. निर्भया के’स के दरिंदो को कुछ दिन और मोहल्लत मिल गई है. निर्भया के’स के चौथे दो’षी पवन ने सुप्रीम कोर्ट में क्यूरेटिव पिटिशन दायर की थी और उसको सुप्रीम कोर्ट ने ख़ारिज कर दी है. पवन ने अपनी अ’र्जी में कहा था कि ‘वह घटना के वक्त ना’बा’लिग था. इस मामले में उसकी रिव्यू याचिका पहले ही खारिज हो गई थी. 5 जजों की पीठ ने सर्वसम्मति से पवन की या’चि’का को खारिज कर दिया है.

निर्भया गैं’गरे’प म’र्डर के’स के चारों आ’रोपि’यों में से एक पवन की दया याचिका राष्ट्रपति के सामने लं’बित होने की वजह से पटियाला हाउस कोर्ट ने चारों की फां’सी पर अगले आदेश तक रोक लगा दी है. पूर्व आदेश के मुताबिक चारों को कल 3 मार्च को सुबह 6 बजे फां’सी होनी थी. अगर आज का इस मामले को लेकर पूरा घटनाक्रम बताये तो आज ही पवन की क्यूरेटिव याचिका सुप्रीम कोर्ट ने खा’रिज की है, तो साथ ही पटियाला हाउस कोर्ट ने डे’थ वॉ’रंट पर रो’क लगाने की अक्षय और पवन की याचिका खारिज कर दी.

इस बीच दो’षी पवन के वकील एपी सिंह एक बार फिर पटियाला हाउस कोर्ट पहुंच गए हैं और उनका कहना है कि डे’थ वा’रंट पर रो’क लगनी चाहिए, क्योंकि पवन ने राष्ट्रपति के सामने दया याचिका लगाई है. राष्ट्रपति के पास याचिका लं’बित है, इसलिए कोर्ट ने यह फैसला किया है.  पटियाला हाऊस कोर्ट के जज ने पूछा कि किस नियम में लिखा है कि आप क्यूरेटिव पिटीशन से पहले द’या या’चिका नहीं दायर कर सकते हैं. इसका जवाब देते हुए दो’षी के वकील पवन के वकील एपी सिंह जेल मेन्युअल पढ़ा. निर्भया के माता- पिता के वकील ने कहा कि दो’षी पवन की अ’र्जी खा’रिज होनी चाहिए. वहीं, सरकारी वकील ने कहा कि पवन की याचिका पूरी तरह सही नही है, इसलिए इस याचिका को खा’रिज होना चाहिए.

निर्भया के’स में दो’षि’यो को फां’सी देना अभी धू’मिल सा हो गया है. क्योकि आज एक बार फिर से निर्भया के’स में दो’षि’यों की फां’सी टाल दी गई है. तो अब देखना होगा कि कोर्ट अगली तारीख कब देता है. जिस दिन इन द’रिं’दो को फां’सी के त’ख्ते पर लट’काया जायेगा. इंतजार अभी बढ़ता हुआ दिख रहा है. तो फां’सी को लेकर अब थोड़े दिन दो’षियों को मो’हल’त मिल गई है. लेकिन कुछ दिन ही सही फां’सी होगी ज़रूर.