मजदूरों के पलायन पर बोले नीतीश कुमार, अपनों से प्रेम है तो जहां है वही रहे

154

पीएम मोदी ने कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए देश में 21 दिन का लॉकडाउन लागू कर रखा है. लॉकडाउन करना भी भारत के लिए बहुत जूरूरी हो गया था. क्योंकि जिस तरह से कोरोना देश के अंदर अपने पैर पसार रहा था. उसको देखते हुए पीएम मोदी को ये कदम उठाना पड़ा. क्योंकि बाकि देशों को देखते हुए भारत ने अपने को बचाने के लिए कमर कस ली है. अगर भारत कठोर कदम ना उठाता तो शायद देश को काफी छति उठानी पड़ सकती थी. इसको देखते हुए पीएम मोदी ने कठिन कदम उठाये और अपने देश की रक्षा की.

वहीं हालातों को देखते हुए बिहार के सीएम ने कहा कि लोगों को वापस घर भेजने की बजाय, बेहतर यही होगा कि लोकल लेवल पर कैम्‍प लगाएं जाएं. राज्‍य सरकार उन कैम्‍पों का खर्च वहन करेगी. इसके साथ साथ लोगो से अपील करते हुए कहा कि बिहार को बचाने के लिए, अपने लोगों से प्रेम है तो जो जहां हैं, वहीं रहें.  सरकार उनके रहने-खाने का इंतजाम कर रही है. इसके अलावा नीतीश कुमार ने कहा कि लॉकडाउन में फंसे लोग हेल्‍पलाइन नंबर पर फोन कर अपनी लोकेशन बताएं, उनकी मदद की जाएगी.  अगर वहां फोन ना लगे तो सीएम ऑफिस में फोन करें,  सरकार की तरफ से हरसंभव मदद की जाएगी.

वही दूसरी तरफ UP के CM योगी ने भी 1000 बसों का इंतजाम किया है ताकि लोग सकुशल अपने घरो तक पहुच जाये तो दिल्ली के डिप्टी CM मनीष सिसोदिया ने भी लोगो के लिए 100 बसों का इंतजाम किया है. जिससे लोग अप्न३ घरो तक पहुँच सके. गौरतलब है इस तरीके से कोरोना कहर भारत में और फैल जायेगा. जिससे निपटना मुश्किल हो जायेगा. वही यदि लोगो को सुरक्षित रहना है तो सरकार की बात माने और घरो में ही रहे ताकि इस महामारी से बचा जा सकता है.