इस मामले में बेहद सख्त रह चुके हैं सीएम नीतीश कुमार, 7 कार्यकाल में इतने मंत्रियों से ले चुके हैं इस्तीफा

36

बिहार में नई सरकार का गठन हो गया है. नीतीश कुमार ने 7 वीं बार सीएम पद की शपथ ले ली है. इस बार बीजेपी ने सुशील मोदी की जगह तार किशोर पसाद एवं रेणु देवी को उप मुख्यमंत्री पद की शपथ दिलाई. उनके साथ कई और मंत्रियों ने भी शपथ ली थी, जिसमें से एक शिक्षा मंत्री मेवालाल भी शामिल थे, उनपर लगे आ’रोपों के बाद मेवालाल ने इस्ती’फा दे दिया है.

जानकारी के लिए बता दें बिहार में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की छवि सु’शासन बाबू वाली रही है. उनका अब तक का कार्यकाल बेहद ही शानदार रहा है. नीतीश कुमार ‘सी’ क्रा’इम, कर’प्शन व कम्यूनिलिज्म से समझौता नहीं करने वाले मुख्यमंत्री के रूप में भी जाने जाते हैं. आज हम आपको उनके कार्यकाल से जुड़े कुछ बेहद रोचक किस्से बताने जा रहे हैं.

सीएम नीतीश कुमार को लेकर कई बड़े उदहारण हैं. जब विभिन्न आ’रोपों में घिरे उनके मंत्री मंडल में शामिल आधा दर्जन मंत्रियों से नीतीश कुमार को इस्ती’फा लेना पड़ा. पहली ही सरकार में उन्होंने जीतन राम मांझी से 24 घंटे के भीतर ही इस्तीफा ले लिया था. उनके बाद फिर रामानंद को पद छोड़ना पड़ा था. 19 मई साल 2011 की बात है जब को’र्ट द्वारा फ’रार घो’षित होने के बाद सहकारिता मंत्री रामाधार सिंह ने इ’स्तीफा दे दिया.

गौरतलब है कि साल 2015 में एक स्टिंग ऑपरेशन में 4 लाख घू’स लेते हुए पक’ड़े गये निबंधन उत्पाद मंत्री अवधेश कुशवाह ने भी इस्तीफा दिया था. इतना ही नहीं साल 2018 में तत्कालीन समाज कल्याण मंत्री मंजू वर्मा को ससुराल में का’रतू’स मिलने के चलते इ’स्तीफा देना पड़ा था. वहीँ नीतीश कुमार के कार्यकाल में एक नया नाम मेवालाल चौधरी का भी जुड़ गया है. सीएम नीतीश कुमार अपने 7 बार के कार्यकाल में 6 मं’त्रियों से इ’स्तीफा ले चुके हैं.