नीतिश कुमार ने किया बड़ा खुलासा, जेल में ये काम करते है लालू यादव

255

लोकसभा चुनाव आते ही बिहार की राजनीति में बवाल मचा हुआ है..बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने यह बयान दिया कि जेल में रहते हुए भी लालू यादव राजनीति कर रहे हैं. जिसके बाद रांची जिला प्रशासन हरकत में आ गया और बीते चार दिनों में दो बार लालू प्रसाद यादव के पेइंग वार्ड की तलाशी ली गई..

बिहार के CM नीतीश कुमार ने राजद सुप्रीमो लालू यादव पर बड़ा आरोप लगते हुए कहा कि वह जेल से ही चुनाव की गतिविधियों पर नजर रख रहे है..जिससे चुनाव प्रभावित हो सकता है..मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने लालू यादव पर जेल से ही फोन का यूज करने का भी आरोप लगाया..

जान ले कि चारा घोटाला मामले में राँची के बिरसा मुंडा जेल में अपनी सज़ा भुगत रहे लालू अभी स्वास्थ्य को लेकर रिम्स में भर्ती हैं। जहां उनका इलाज चल रहा है.. महागठबंधन के कई नेताओं का वहाँ आना-जाना लगा रहता है और टिकट के दावेदारों की लाइन भी लालू से मिलने के लिए लगती है। पहले ही ऐसी ख़बर आई थी कि लालू यादव जेल से ही लोकसभा चुनाव को लेकर राजद के सारे फैसले ले रहे हैं..उपेंद्र कुशवाहा, प्रकाश करात, जीतन राम माँझी समेत कई बड़े नेताओं ने राँची जाकर लालू से मुलाक़ात भी की थी..

पुलिस को सूचना मिली थी कि लालू प्रसाद अस्पताल के कमरे से ही राजनीति कर रहे हैं, जिसे लेकर कुछ सामान भी वहां मौजूद हैं। हालांकि पुलिस इस जांच को रूटीन जांच बता रही है, लेकिन एक सप्ताह के अंदर पुलिस द्वारा यह दूसरी जांच की गई है। जांच के दौरान पुलिस को कमरे में मौजूद दवाईयां, फल और सब्जियां ही हाथ लगी।

झारखंड के जेल आईजी विरेंद्र भूषण ने तत्काल अपनी सफाई दी है कि लालू प्रसाद के द्वारा अस्पताल में मोबाइल फोन के इस्तेमाल की बात निराधार है। प्रशासन के द्वारा कई बार औचक निरीक्षण किया गया है, कभी भी मोबाइल की बरामदगी या इसके इस्तेमाल की बात सामने नहीं आयी है। उन्होंने कहा कि लालू प्रसाद से मिलने जाने वाले लोगों का मोबाइल भी मुलाकात के पहले जमा करा लिया जाता है।

बताया जा रहा है कि चुनाव को लेकर पार्टी के कार्यकर्ता लालू प्रसाद से लगातार हर दिन मिलने की कोशिश में लगे हुए हैं। लेकिन सुरक्षा कड़ी होने के कारण मिल पाना मुश्किल है। लेकिन चुनाव को लेकर लालू प्रसाद का संदेश किसी माध्यम से पार्टी तक पहुंचने की सूचना पुलिस को दी गई है।

बता दें कि रिम्स के पेइंग वार्ड में भर्ती लालू प्रसाद यादव का कमरा फर्स्ट फ्लोर पर है. नीतीश के बयान के बाद कमरे की सुरक्षा बढ़ा दी गई है..यहां तक कि कमरे के बहार स्कैनर लगा दिया गया है..स्कैनर से होकर ही डॉक्टर और सेवादारों को जाने की अनुमति है..

ऐसा भी कहा जा रहा है कि पुलिस ने रिम्स के निदेशक से लालू के कमरे के बाहर सीसीटीवी कैमरा लगाए का भी आग्रह किया है. साथ ही उनके सेवादारों को पुलिस ने यह सख्त निर्देश दिया गया है कि वह कमरे में जाने के बजाय सामान और खाना सुरक्षाकर्मियों को दे दें. किसी को भी कमरे में जाने की जरूरत नहीं है..फिलहाल दो लोगों को लालू के साथ रहने की अनुमति है. जिसमें एक उनके खाने- पीने का और दूसरा उनकी दवाओं का ध्यान रखता है. इसके अलावा उनकी सुरक्षा में करीब 25 सुरक्षाकर्मी और पदाधिकारी तैनात हैं..

बहरहाल, लोकसभा चुनाव है और चुनाव के वक्त कुछ भी होना लाजमी है..ऐसे में अगर ये बात सच भी निकली है तो इसमें चौकने वाली बात नहीं है..बता दें..रांची के रिम्‍स में अपनी गंभीर बीमारियों का इलाज करा रहे लालू प्रसाद यादव पर पहले भी लोकसभा चुनाव को लेकर रणनीति बनाने और जेल से ही नेताओं को निर्देश देने के आरोप लगे हैं..