बिहार में फिर पाला बदलने की तैयारी कर रहे है नीतीश कुमार?

1957

बिहार की राजनीति ने एक बार फिर से हलचल मची हैं. दरअसल बिहार में विधानसभा चुनाव होने वाले है. जिसकी तैयारी जोर शोर से की जा रही है. सभी राजनीतिक पार्टियां बिहार चुनाव से अपने अपना अपना ए’जेंडा सा’धने मे लगी है. वही बिहार में नीतीश कुमार ने 72 घंटों में कुछ ऐसा कर डाला जिसके बाद से RJD और BJP भी दं’ग रह गयी. जिसकी वजह से बिहार के सि’यासी गलियारों में अचानक हलचल चालू हो गयी है. जिसके बाद यह देखना होगा की बिहार विधानसभा चुनाव में इसका कितना असर होगा.

दरअसल बिहार में नीतीश कुमार ने तीन ऐसे बड़े फैसले लेकर सभी को चौका दिया जिसका अंदाजा किसी को भी नहीं था. नीतीश कुमार ने बिहार में एनआरसी न कराने और एनपीआर को 2010 के आधार पर कराने प्र’स्ताव पास किया और जाति आधारित जनगणना को लेकर भी म’हत्व’पूर्ण प्रस्ताव पास करवाया. नीतीश कुमार के द्वारा बिहार में चुनाव से पहले खेला गया यह दांव कितना असरदार होगा यह तो वक्त ही बताएगा. लेकिन नीतीश कुमार ने बिना bjp की परवाह किये बिहार विधानसभा में NRC लागू न करने का प्रस्ताव पास करवाया.

नीतीश कुमार के अनुसार उनसे बिहार के अ’ल्पसं’ख्य’क वोट दूर हो रहा था. ऐसे में उन्होंने अपने वोट बैंक को बनाये रखने के लिए तीन बड़े फै’सले ले लिए. जिसके बाद से सभी लोग चौक गए है. बता दें बिहार में इसी साल आखिरी में विधानसभा का चुनाव होना है. वही नीतीश कुमार इस बार भी एनडीए ग’ठबंधन के साथ चुनावी मैदान उतरेंगे. बता दें इससे पहले नीतीश कुमार 2015 में RJD के साथ महा’गठ’बंधन से स’त्ता में आये थे. जिसके बाद अब नीतीश कुमार ने फिर से दांव खेला है. जिसका चुनावी मैदान पर कितना असर पड़ेगा और नीतीश कुमार को कितना लाभ मिलेगा. यह तो बिहार के विधानसभा के बाद ही पता चलेगा.