ट्राफिक नियमों को लेकर गलत खबरों से परेशान हुए नितिन गडकरी, देखिये क्या कहा

4215

नए ट्राफिक नियमों के लागू होने के बाद से ही कई जगहों पर बवाल मचा.. कुछ ने अपनी गाड़ियाँ फूंक दी.. कुछ ने गाड़ी ही पुलिस को सौंप दी. उनका कहना था कि जितना गाडी का दाम नही है उससे ज्यादा का तो चालान है. खैर इस समय आप तक कई ख़बरें ऐसी पहुँच रही होंगी कि जूता नही पहना तो चालान.. हाल्फ शर्ट पहनी तो चालान..हेलमेट पहना है तो भी चालान आपका कटेगा ही… इस तरह के ना जाने कितने खबर और मीडिया रिपोर्ट्स आप तक आती होंगी.. इसे देखकर पहली नजर में तो आप भी कन्फ्यूज हो ही गये होंगे.. लेकिन अब परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने ऐसे मीडिया रिपोर्ट और संस्थानों के खिलाफ नाराजगी दिखाई और दुःख जताया है कि कैसे देश में मीडिया कर्मी किस तरह से लोगों को नए मोटर व्हीकल एक्ट को लेकर गुमराह कर रहे हैं..

दरअसल सोशल मीडिया पट ट्वीट करते हुए परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि मुझे खेद है, आज फिर हमारे मीडिया के कुछ मित्रों ने सड़क सुरक्षा कानून जैसे गम्भीर विषय का मजाक बनाया है। मेरा सबसे आह्वान है, लोगों की जिंदगी से जुड़े इस गम्भीर मसले पर इस प्रकार गलत जानकारी फैला कर लोगों में भ्रम ना पैदा करें।

अब उन्होंने ऐसा क्यों कहा इसके पीछे भी कारण है.. दरअसल इसी ट्वीट के साथ नितिन गडकरी ने एक तस्वीर साझा की ये तस्वीर एक जानी मानी मीडिया हाउस की वेबसाइट की थी. इस वेबसाइट पर एक आर्टिकल लिखा गया था जिसकी हेडिंग में लिखा गया था कि ड्राइविंग के वक्त अगर नही पहनी फुल बांह की शर्ट तो कट सकता है चालान! ये खबर पूरी तरह झूठी थी..ऐसा कोई कानून है ही नही.. हलांकि जब नितिन गडकरी ने इसे twiiter पर साझा किया था मीडिया कंपनी ने इसे तुरंत अपनी वेबसाइट से हटा लिया.. लेकिन ऐसे ना जाने कितने आर्टिकल सोशल मीडिया पर घूम रहे हैं जो लोगों को भ्रमित कर रहे हैं और गुमराह कर रहे हैं.

इसी तरह की एक खबर और भ्रमित तरीके से फैलाई गयी कि अगर आपके पास हेलमेट है तो भी आपका चालान कटेगा.. इस तरह की हेडिंग कई मीडिया कम्पनियों ने चलाया.. इससे कई लोग कन्फ्यूज हो गये कि आखिरकार ये हो क्या रहा है? हालाँकि इसके पीछे की असलियत कुछ और ही थी.. दरअसल इस बात को तो आप भी जानते है कि लोग चालान से बचने के लिए किस किस तरह के हेलमेट का प्रयोग कर रहे थे.. कोई और इंजीनियर वाले हेमलेट लगा लेता था तो कोई 200 300 का हेलमेट लगा लेता है जिससे कि सिर पर एक हेलमेट लगा रहे और चालान ना कटे.. इस तरह के हेलमेट पहनने का कोई फायदा नही होता था क्योंकि उनकी क्वालिटी इस लायक ही नही रहती थी कि वे आपकी सुरक्षा कर सके.. आपको किसी दुर्घटना से बचा सके. इसी लिए कानून में प्रावधान किया गया कि आपको हेलमेट भी उच्च गुणवत्ता वाली ही लेनी है.. वो इंजीनीयर वाला हेलमेट अब नही चलेगा.. अगर आप अभी भी लोकल, बिना ISI मार्क वाला हेलमेट इस्तेमाल कर रहे हैं तो उसे तुरंत किसी कचरे में फैंक दीजिये क्योंकि अब तक आप इस हेलमेट को सिर्फ चालान से बचने के लिए पहन रहे थे लेकिन नए कानून के तहत मार्क वाले हेलमेट पहनने पर उतना ही चालान लगेगा जितना की बिना हेलमेट पहनने पर लता है…. इसलिए आगे से आप हेलमेट हमेशा isi मार्क वाले ही खरीदें..

अब आप इस बात का ध्यान रखिये की मोटर व्हीकल एक्ट में बदलाव आपके लिए किया गया है आपकी सुरक्षा के लिए किया गया है.. ना कि आपको परेशान करने के लिए.. तो आपको भी नए नियमों के मुताबिक़ गाडी चलानी चाहिए और नियमों का पालन करना चाहिए.. अगर आप नियमों का पालन करते है तो हजारों के चालान से आप पर कोई फर्क नही पड़ने वाला.. लेकिन अगर आप इस नियमों का पालन नही करते तो आपको अपनी जेब ढीली करनी पड़ सकती है.