प्रियंका गांधी वाड्रा के वाराणसी दौरे को लेकर नितिन गडकरी ने कसा तंज

325

कुछ दिन पहले ही प्रियंका गांधी प्रयागराज से वाराणसी गयी थी जिसके लिए उन्होंने वाटर वे का उपयोग किया. प्रियंका गाँधी प्रयागराज से वाराणसी गंगा नदी के जरीए बोट के सहारे पहुंची थी. इतना ही नही प्रियंका गाँधी वाड्रा ने इलाहाबद में माँ गंगा की पूजा की थी इसके साथ साथ उन्होंने गंगा का पानी पी पिया था.
इसके बाद चुनाव प्रचार के लिए वाराणसी पहुंची. दरअसल इसी के सहारे प्रियंका गांधी वोटरों को लुभाने में लगी हुई है. वाराणसी पहुंचकर प्रियंका गांधी वाड्रा ने काशी विश्वनाथ के दर्शन किये और एक सभा को संबोधित करते हुए मोदी सरकार हमला बोला.. काम ना करने का आरोप लगाया, सरकार के विकास के दावे पर प्रहार किया लेकिन अब मोदी सरकार में महत्वपूर्ण मंत्रालय संभाल रहे नितिन गडकरी ने प्रियंका गांधी को जबरदस्त तरीके से जवाब दिया है. नितिन गडकरी के बयान में प्रहार कम लेकिन तंज अधिक था और तंज ऐसा जो धक् से लग जाए!
दरअसल ani को दिए एक इंटरव्यू में जहाजरानी, सड़क एवं परिवहन मंत्री नीतिक गडकरी ने प्रियंका गाँधी के दौरे पर कहा है कि अगर हमने प्रयागराज वाराणसी वाटर वे पर काम ना किया होता तो वे यानी प्रियंका गाँधी प्रयागराज से वाराणसी कैसे पहुंची.. यहाँ तक कि उन्हीने गंगा का पानी भी पिया.. क्या वे ये पानी यूपीए सरकार के दौरान पी सकती थी?


अब नितिन गडकरी के इस बयान से बहुत कुछ साफ़ झलकता है. नितिन गडकरी ने अपने विरोधियों पर जोरदार हमला भी बोला, तंज भी कस लिया और अपने काम का प्रमाण भी दे दिया. वैसे नितिन गडकरी का कहना है कि अभी तो गंगा के कुछ ही प्रोजेक्ट पूरे हुए हैं. अगले साल तक लगभग सारे प्रोजेक्ट पूरे हो जायेंगे इसके बाद गंगा पूरी तरह से साफ़ हो जायेगी.
वैसे प्रियंका गांधी का कहना है कि वे गंगा माँ का आशीर्वाद लेने पहुंची थी. पर किसके लिए अपने लिए या फिर पार्टी के लिए… प्रयागराज में महीनों तक संगम चला लेकिन प्रियंका गाँधी नही पहुंची… राहुल गाँधी नही पहुंचे.. अब चुनाव प्रचार की कमान थामने के बाद प्रियंका गाँधी प्रयागराज भी पहुंची, वाराणसी भी पहुंची और लगी सरकार को घेरने में… प्रयागराज जहाँ विश्व के सबसे बड़े धार्मिक मेले का आयोजन किया गया था, करोड़ों लोग पहुंचे थे.. लाखों की संख्या में लोगों को रोजगार मिला.. अब प्रियंका यहाँ के लोगों को बता रही थी कि विकास नही हुआ.. काम नही हुआ?


इसी के साथ प्रियंका वाड्रा वाराणसी पहुंची जो प्रधानमंत्री का संसदीय क्षेत्र हैं. यहाँ के विकास को लेकर प्रियंका गाँधी ने मोदी सरकार को घेरा.. हालाँकि यहाँ सरकार की कई योजनायें काम कर रही हैं. वाराणसी जैसे घनी गलियों वाले शहर को विकसित करना सरकार के लिए भी एक बड़ी चुनौती हैं. हालाँकि काशी विश्वनाथ कोरिडोर बड़ी तेजी से बनाया जा रहा है और वाराणसी से पशिचम बंगाल तक वाटर वे का ट्रायल भी किया चूका है.
इसी के साथ गंगा की सफाई के लिए कई योजनाओं को शुरू किया गया है लेकिन यह बात हम सबको समझनी होगी कि गंगा सफाई का काम महीने दो महीने का नही है. इसमें टाइम लगना स्वभाविक हैं. हमें नदियों में कचडा फेकना बंद करना होगा. इमानदारी से हमें खतरनाक पानी को गंगा नदी में गिराने से बचना होगा… सरकार का सहयोग करना होगा.. इसके बाद वो दिन दूर नही जब गंगा अविरल, पवित्र और साफ़ होगी.