महिला की आईडी बना कर भ’ड़काऊ और सांप्रदायिक पोस्ट कर रहा इंजिनियर गिरफ्तार, दस हज़ार लोग करते थे फॉलो’

5820

सोशल मीडिया पर इन दिनों काफी सख्ती हो गई है. शुरुआत में फेसबुक और ट्विटर जैसे सोशल नेटवर्क वेबसाईट दोस्ती बढाने और एक सामाजिक दायरा बढाने के लिए इस्तेमाल होता था वहीँ अब इसका उपयोग न’फरत और साम्प्रदायिकता फैलाने के लिए ज्यादा किया जाने लगा है. ऐसे ही एक युवक को रायपुर पुलिस ने गिरफ्तार किया जो हिन्दू महिलाओं की फेक आईडी बना कर फेसबुक पर साम्प्रदायिक और भड़काऊ पोस्ट कर रहा था. आरोपी युवक इंजीनियरिंग का छात्र है. वो पिछले 11 सालों से आईटी से इंजीनियरिंग कर रहा है लेकिन अब तक पास नहीं हो सका है.

रवि पुजार नाम के इस शख्स को पुलिस ने न सिर्फ गिरफ्तार कर जेल भेज दिया बल्कि पुलिस ने युवक को पकड़ने के बाद उससे ‘निशा जिंदल’ नाम की फेसबुक आईडी पर उसकी असली तस्वीर भी पोस्ट कराई. दरअसल पुलिस को शिकायत मिली थी कि निशा जिंदल नाम की आईडी से लगातार भड़काऊ और साम्प्रदायिक पोस्ट किया जा रहा है. शिकायत मिलने के बाद पुलिस ने ‘निशा जिंदल’ के नाम से बनी फेसबुक आईडी की छानबीन की. छानबीन के आधार पर पुलिस जब शुक्रवार को गिरफ्तारी के लिए पहुंची तो ‘निशा जिंदल’ की जगह पर रवि मिला.

पुलिस ने जब कड़ाई से पूछताछ की तो रवि ने कुबूल किया कि वही इस अकाउंट को चलाता है. इसके बाद पुलिस ने युवक से ‘निशा जिंदल’ के अकाउंट पर उसकी असली फोटो पोस्ट कराई और उसकी सच्चाई दुनिया को बताई. आरोपी युवक के खिलाफ आईटी ऐक्ट और अन्य धाराओं के तहत केस दर्ज किया गया है. निशान को 10 हज़ार लोग फॉलो करते थे इसलिए उन सबको सच्चाई बतानी जरूरी थी.

छत्तीसगढ़ में तैनात आईएएस अधिकारी प्रियंका शुक्ला ने ट्वीट करके इसकी जानकारी दी. उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा- ‘साम्प्रदायिक वैमनस्यता भड़काने के आरोप में जब रायपुर पुलिस एफबी यूजर ‘निशा जिंदल’ को गिरफ़्तार करने पहुंची तो पता चला कि 11 साल से इंजिनियरिंग पास नहीं कर पा रहे ‘रवि’ ही वास्तव में ‘निशा ‘हैं. ‘निशा’ के 10,000 फॉलोअर्स को सच बताने पुलिस ने रवि से ही उनकी सच्चाई पोस्ट कराई.’