निर्भया के दो’षी ने फां’सी से बचने के लिए चला नया पैंतरा, सुन कर चौंक जायेंगे आप

5991

निर्भया मामले में आज एक और नया मोड़ आया. दो’षियों ने फां’सी से बचने के लिए एक नया तिकड़म भिड़ाया है. चार दो’षियों में से एक विनय शर्मा ने अपनी फां’सी टालने के लिए नया पैंतरा चलते हुए कहा कि उसकी मानसिक स्थिति ठीक नहीं है इसलिए उसे फां’सी पर न लटकाया जाए.

विनय ने राष्ट्रपति के पास दया याचिका भेजी थी. लेकिन राष्ट्रपति ने याचिका खारिज कर दी तो विनय की फां’सी का रास्ता साफ़ हो गया था लेकिन अब विनय ने नया दांव आजमाया है. सुप्रीम कोर्ट ने राष्ट्रपति की ओर से दया याचिका खारिज करने के खिलाफ दो’षी विनय शर्मा की याचिका पर फैसला शुक्रवार के लिए सुरक्षित रख लिया है.

 दो’षी विनय के वकील ने कहा, ‘विनय शर्मा की मानसिक स्थिति सही नहीं है, मानसिक रूप से प्रताड़ित होने की वजह से विनय मेंटल ट्रॉमा से गुजर रहा है, इसलिए उसको फां’सी नही दी जा सकती है.  विनय को जेल प्रशासन द्वारा कई बार मानसिक अस्पताल में भेजा गया. उसको दवाइयां दी गई किसी को मानसिक अस्पताल तब भेजा जाता है जब उसकी मानसिक स्थिति सही नहीं हो. इसलिए उसको फां’सी नही दी जा सकती है.’ विनय के वकील ने कहा कि अगर ऐसी स्थिति में उसे फां’सी दी जाती है तो विनय शर्मा के जीने के अधिकार आर्टिकल 21 का हनन है.

सॉलिसिटर जनरल ने कहा कि विनय की दया याचिका खारिज करते हुए गृह मंत्रालय ने कहा था कि बहुत जघन्य अपराध है और यह रेयर ऑफ द रेयरेस्ट का मामला है.  जेल के सभी कैदियों को रूटीन मानसिक चेकअप किया जाता है. ये एक नियमित प्रक्रिया है. इसका मतलब ये नहीं कि वो पागल है या उसकी मानसिक स्थिति खराब है. ये बस फां’सी से बचने के पैंतरे हैं.