22 जनवरी को नहीं मिल पाएगी निर्भय के गुनाहगारों को फांसी, अब आई ये अड़चन

3596

कोर्ट ने भले ही निर्भय के गुन’ह’गारों के लिए डे’थ वा’रंट जारी कर दिया हो और उन्हें 22 जनवरी को फां’सी पर चढाने का आदेश दे दिया हो. लेकिन ऐसा लगता नहीं कि 22 जनवरी को निर्भय के दोषियों को फां’सी हो पाएगी. एक दो’षी मुकेश ने फां’सी पर रोक लगाने की मांग की है. उसने कहा है कि उसकी दया याचिका अभी राष्ट्रपति के पास लंबित है. इसलिए उसे अभी फां’सी पर नहीं चढ़ाया जा सकता.

निर्भया गैं’ग’रे’प के दो’षी मुकेश कुमार की अर्जी पर दिल्ली हाईकोर्ट में सुनवाई शुरू हो गई है. सुनवाई के दौरान दिल्ली सरकार और दिल्ली एएसजी के वकील ने कहा कि निर्भया के दो’षि’यों को 22 जनवरी को फां’सी नहीं दी जा सकती है. क्योंकि राष्ट्रपति द्वारा दया याचिका पर फैसला देने के बाद भी दो’षि’यों को 14 दिन का वक्त देना होगा.

सुनवाई के दौरान जज ने सख्त टिप्पणी करते हुए कहा- ‘यह साफ है कि कैसे दो’षि’यों की ओर से बड़ी चालाकी से सिस्टम का दुरूपयोग किया गया ऐसे में तो लोग सिस्टम से भरोसा खो देंगे.’ मुकेश ने अपनी दया याचिका लगाने के लिए जेल प्रशासन को पत्र दे दिया है. बुधवार सुबह यह दया याचिका दिल्ली सरकार के होम डिपार्टमेंट में भेजी गई. होम डिपार्टमेंट इसे राष्ट्रपति के पास भेजेगा. राष्ट्रपति का फैसला आने तक दो’षि’यों को फां’सी पर चढ़ाना असंभव है. अब राष्ट्रपति कब तक इसपर फैसला लेते हैं ये तो उन्हें ही पता है.