निर्भ’या के दो’षियों की फां’सी के लिए क्यों चाहिए 4 ज’ल्लाद ?

2189

निर्भ’या के गुन’हगारों को स’जा मिलने का समय नजदीक आता जा रहा है, तारीख़ भले ही अबतक तय नहीं हुई है मगर प्रशासन पूरी तरह से इसके लिए तैयारियों में जुटा हुआ है. तिहा’ड़-प्रशासन ने देश के सबसे जघ’न्य अप’राध के दोषि’यों को फां’सी पर लट’का’ने के लिए तैयार है. इसी के चलते चारों दो’षियों को एक साथ फां’सी पर लट’काने के लिए तिहा’ड़ जे’ल में करीब 25 लाख रुपए की लागत से एक नया फां’सी घर बनाया गया है। आपको बता दें इससे पहले तिहाड़-प्रशासन ने पहले से ही ये स्पष्ट कर दिया था कि नि’र्भया के चारों दो’षियों को एक बार एक साथ ही फां’सी पर लट’का दिया जायेगा। इसपर पत्रकारों से बात करते हुए तिहाड़ जे’ल के महानिदेशक संदीप गोयल ने कहा कि एक साथ अब चारों बला’त्कारि’यों मुकेश, पवन, विनय और अक्षय को फां’सी देने की व्यवस्था तिहाड़ प्रशासन ने कर ली है और अदा’लत का अंतिम आदेश मिलने के पश्चात जे’ल स्तर पर फां’सी देने में किसी तरह की कोई भी देरी नहीं बरती जाएगी।

तिहाड़ में होगी सबसे बड़ी फां’सी, 4 जल्ला’दों की पड़ सकती है जरूरत
सूत्रों की मानें तो अब संभव है कि चारों दो’षियों को एक साथ फां’सी पर लट’काने के लिए तिहा’ड़ प्रशासन पर 4 जल्ला’द बुलाने पड़ें क्योंकि ति’हाड़ में 2 फाँ’सी’घर मौजूद हैं और दोनों का लीवर भी अलग-अलग होता है। क्यूंकि फां’सी घर इस तरह से तैयार किया गया है कि फां’सी के वक्त फाँ’सीघर में जो भी अधिकारी उपस्थित होंगे वो एक साथ चारों को दो’षियों को फां’सी होते एक साथ देख सकेंगे।

2012 में नि’र्भया के साथ किया गया था गैं’गरे’प का ज’घन्य अ’पराध

16 दिसंबर 2012 की एक सर्द रात में 23 वर्षीय पैरामेडिकल स्टूडेंट के साथ चलती हुई बस में गैं’गरे’प की घ’टना को कुछ हैवा’नों ने अं’जाम दिया था. इस के’स को रेअरे’स्ट ऑफ रे’यर क्यों माना जाता है उसका अंदाजा आप इस बात से लगा सकते हैं कि दो’षियों ने उसके साथ बेहद ही अमा’नवीय ढंग से मा’रपी’ट तक की थी. उसके इंटरनल ऑर्ग’न्स में गं”भीर चो’टें भी आयीं थीं.

जिसके चलते छात्रा ने 29 दिसंबर 2012 को द’म तो’ड़ दिया था. इसके बाद सुप्री’म को’र्ट ने इस मा’मले में दो’षी मुकेश, पवन, विनय और अक्षय को फां’सी की स’जा सुना दी थी। वहीँ एक अन्य दो’षी रामसिंह ने ति’हाड़ जे’ल में फां’सी लगाकर आ’त्मह’त्या कर ली थी.