हैदराबाद के बाद अब निर्भया को जल्द मिलेगा इन्साफ ?

2353

हैदराबाद वाले के’स में दिशा को न्याय मिल चुका है, हैदराबाद पुलिस ने चारों आरोपियों को अपने बचाव में किये गए एनका’उंटर में ढेर कर दिया.. हैदराबाद की खबरों को आप हर तरफ देख ही रहे होंगे लेकिन जिस खबर पर किसी का ध्यान नहीं गया वो ये है कि अब निर्भया को भी बहुत जल्द इन्सा’फ मिलने की सम्भावना नजर आ रही है.. केन्द्रीय गृह मंत्रालय ने राष्ट्रपति को 2012 में दिल्ली के वसंत विहार में हुए निर्भया कां’ड में आरो’पी विनय शर्मा की दया याचिका को भेज दिया है..

गृह मंत्रलाय ने साथ ही विनय की याचिका को ख़ारिज करने की भी सिफारिश भेजी है. इससे पहले भी दिल्ली सरकार के गृह मंत्रालय ने विनय शर्मा की अपील को ख़ारिज करने के लिए उपराज्यपाल अनिल बैजल से सिफारिश की थी.. उस वक्त दिल्ली गृह मंत्रालय की सिफारिशों को मानते हुए उपराज्यपाल ने दया याचिका को ख़ारिज कर दिया था.. अगली प्रक्रिया के तहत फिर इस याचिका को केन्द्रीय गृह मंत्रालय के पास पहुँचाया गया.. ऐसा नहीं है कि सिर्फ दिल्ली सरकार ही केस को गंभीरता से लेते हुए इस याचिका को ख़ारिज करने की मांग कर रही है.. बल्कि इससे पहले दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाती मलीवल ने भी राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को लैटर लिखकर विनय शर्मा की दया याचिका को स्वीकार न करने की अपील की थी.. इस सिफारिश के साथ उन्होंने एक स्टेटमेंट भी दिया था जिसमें कहा गया था कि इस तरह के आपराधिक मामलों को किसी भी तरह से शह न मिले इसलिए ऐसे अपराधों को बिलकुल भी बर्दाश्त नहीं करना चाहिए..  

निर्भया मामला : क्या हुआ था उस दिन..

ये बात है 16 दिसंबर 2012 की जब रात में एक फिजियोथेरेपिस्ट की पढ़ाई करने वाली छात्रा के साथ दिल्ली की वसंत विहार कॉलोनी के पास कुछ लोगों ने पहले बस में दुष्क’र्म किय.. ना सिर्फ दुष्क’र्म किया बल्कि उसके उसके शरीर पर भी हम’ले किये.. इस घट’ना के कुछ दिनों बाद ही उस पीडिता छात्रा ने इलाज के दौरान ही द’म तोड़ दिया था…इस घट’ना में छह अपरा’धियों को पकड़ा गया..

उनपर कानून की उन सभी धाराओं के तहत के’स लगे जो इस मामले में हो सकतीं थी.. इसके बाद खुद से हुई नफ’रत की वजह से इस मामले के एक आरो’पी ने सजा के दौरान जेल में ही आत्मह’त्या कर ली…वहीं, एक इस मामले में दो’षी एक नाबा’लिग को कोर्ट के आदेश के मुताबिक 3 साल के लिए बाल सुधार गृह में भेजा गया और बचे चार अन्य आरोपि’यों के लिए कोर्ट ने सख्त स’जा का ऐलान किया था जिसमें उन्हें फां’सी की स’जा सुनाई गयी.. ये चार अपरा’धी थे….. मुकेश, पवन, विनय और अक्षय..