NIA को मिली हमले में प्रयोग कार की सीसीटीवी फुटेज, क्या जांच में बेनकाब होगा पाकिस्‍तान

431

पुलवामा आतंकी हमले के बाद से जहाँ देश अभी भी उस सदमे से बहार नहीं निकल भी नहीं था कि पाकिस्तान के PM ने एक बयान दिया की इसमे पाकिस्तान का कोई हाथ नहीं ..पर अब नेशनल इनवेस्टिगेशन एजेंसी (एनआईए) का कहना है कि वह पुलवामा आतंकी हमले मामले की जांच पूरी करने के बहुत करीब है.. उसके पास इस बात के सुबूत हैं जो इस तरफ इशारा करते हैं.. कि जैश-ए-मोहम्‍मद के चार या पांच आतंकियों की ओर से इस पूरे हमले को अंजाम दिया गया था..जिसमें आदिल अहमद भी शामिल था.. एनआईए से जुड़े सूत्रों की ओर से इस बात की जानकारी दी गई है और जांच में आदिल और एक लोकल हैंडलर का भी नाम है..

कार की सीसीटीवी फुटेज मिली सूत्रों के मुताबिक एनआईए को उस लाल एको कार की सीसीटीवी फुटेज भी हासिल हो गई है जिसका प्रयोग पुलवामा आतंकी हमले में किए जाने की संभावना है… वीडियो हमले से कुछ समय पहले ही रिकॉर्ड हुआ था.. हमलावर ने कार को सीआरपीएफ की बस से ले जाकर भिड़ा दिया था.. एनआईए सूत्रों की ओर से कहा जा रहर है कि सीसीटीवी फुटेज में साफ नजर आ रहा है कि हमले से पहले आदिल अहमद उसी कार को ड्राइव कर रहा है…

एनआईए ने कार के मालिक की पहचान कर ली है लेकिन हमले के बाद से ही उसका कुछ पता नहीं चल रहा है.. यहां तक कि इस गांड़ी के नम्बर का पता भी एनआईए को चल चुका है.. इस गाड़ी के बारे में कहा गया है कि गाड़ी के मालिक से लेकर इस कार को जैश-ए-मोहम्‍मद के लोग चला रहे थे.. यहां तक कि कई बार स्थानीय लोगों ने इस कार में जैश के लोगों को देखा था.. इसके अलावा एनआईए टीम आतंकी हमले को अंजाम देने वाले जैश-ए मोहम्‍मद के आतंकी आदिल अहमद डार के परिवार के सदस्‍यों का भी डीएनए सैंपल लेगी. इन सैंपलों को घटनास्‍थल से मिले खून के नमूनों से मिलवाया जाएगा… एनआईए को इससे ये पता चल जाएगा कि हमले में शामिल आतंकी आदिल कार में अकेले था या फिर कोई और भी उसके साथ शामिल था.

आदिल ने जिस कार को बस से टकराया उसमें करीब 25 किलोग्राम आरडीएक्‍स था जिसे एक कंटेनर में रखा गया था.. अभी इस बात की जांच चल रही है कि कैसे जैश के आतंकी इतना आरडीएक्‍स, कश्‍मीर लाने में सफल हो पाए..वैसे  जांचकर्ताओं का मानना है कि आरडीएक्‍स को सीमा के दूसरी तरफ यानि पाकिस्तान से लाया गया था…जहाँ पाकिस्तान लगातार इस हमले कि जिम्मेदारी लेने से मना कर रहा है ..पर NIA कि  शुरुवाती जाँच में जो भी सबूत मिले है ..वो इस हमले में पाकिस्तान का हाथ बता रहे है ..खैर जो भी हम तो यही चाहेंगे कि जल्दी से जल्दी सामने आये कि कौन एस दर्दनाक घटना का जिम्मेदार है.