भाजपा ने नीतीश के बारे में कहा कुछ ऐसा कि भड़क गई JDU

1332

भाजपा और JDU के बीच तल्खी बढती नजर आ रही है. बिहार से लेकर दिल्ली तक भाजपा और JDU के रिश्ते ख़राब होते दिख रहें हैं. कल हमने आपको बतया था कि JDU दिल्ली विधानसभा चुनाव बीजेपी से अलग होकर अकेले लड़ेगी. इस पहले JDU ने झारखण्ड का विधानसभा चुनाव भी अकेल ही लड़ी थी. इससे ये लग रहा है की दोनों पार्टी के बीच कुछ अच्छा नही चल नही रहा है.

केंद्र में बीजेपी की संयोगी पार्टी JDU उनके साथ सरकार में है. लेकिन उसके बावजूद भी   बीजेपी के पूर्व केंद्रीय मंत्री और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के संजय पासवान द्वारा मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को ‘थका चेहरा’ और ‘पुराना चेहरा’ बतया है. इससे सुनते ही जद-यू भड़क गया है. जनता दल-यूनाइटेड (जद-यू) ने भाजपा नेतृत्व से ऐसे ‘बड़बोले’ नेताओं पर कार्रवाई करने तक की मांग कर दी है.

भाजपा जद-यू को लेकर रोज बयान बाजी करती नजर आती है. बीजेपी के नेता पासवान ने बुधवार को कहा था कि बिहार के लोग एक भाजपा नेता को बिहार के मुख्यमंत्री के रूप में देखना चाहते हैं, उनके इस बयान से ये कयास लगाये जा सकते है कि क्या बीजेपी और जद-यू का गठबंधन बिहार में नाज़ुक स्थिति में है. उन्होंने दावा किया कि झारखंड वाली स्थिति बिहार में नहीं है। बिहार में भाजपा किसी भी राज्य से ज्यादा मजबूत है और यहां के अन्य दलों से मजबूत और सक्रिय पार्टी है.

उन्होंने कहा था कि नीतीश कुमार का चेहरा अब पुराना हो गया है। बिहार के लोग अब थके नीतीश कुमार की जगह भाजपा का मुख्यमंत्री देखना चाहते हैं.पासवान के इस बयान को हालांकि भाजपा के प्रवक्ता निखिल आनंद ने व्यक्तिगत बयान बताया परंतु जद-यू इस बयान को लेकर भडक गई है.जद-यू के महासचिव क़े सी. त्यागी ने कहा कि भाजपा पार्टी नेतत्व को ऐसे बयानों पर संज्ञान लेना चाहिए. उन्होंने आशा व्यक्त करते हुए कहा कि भाजपा के अध्यक्ष अमित शाह ऐसे बयानों पर संज्ञान लेंगे और आगे से इस तरह के बयान पर रोक लगाएंगे.

त्यागी ने आगे कहा कि अमित शाह ने सार्वजनिक रूप से कहा है कि राजग बिहार में विधानसभाा का चुनाव मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व में लड़ेगा। ऐसी ही बातें राजग में शामिल लोजपा के अध्यक्ष चिराग पासवान और पूर्व अध्यक्ष रामविलास पासवान भी दोहरा चुके हैं. उन्होंने कहा कि जद-यू के किसी नेता ने अब तक भाजपा के नेतृत्व पर नकारात्मक टिप्पणी नहीं की है, ऐसे में भाजपा को भी इससे बचना चाहिए.