CAB और NRC पर देश में मचे ब’वाल के बीच बांग्लादेश ने दिया ये बड़ा बयान

3386

बांग्लादेश के विदेश मंत्री ए अब्दुल मोमेन ने हाल ही में भारत में अवैध रूप से रह रहे बांग्लादेशियों की लिस्ट को सौंपने के लिए भारत सरकार से अपील की है. ये अपील भारत सरकार द्वारा पारित किये गये CAB और NRC के ठीक बाद की गयी है. सूत्रों के मुताबिक उन्होंने कहा कि अगर भारत सरकार हमें वो सूची मुहैया करा देती है तो ऐसे में उन नागरिकों के वापस बांग्लादेश लौटने के प्रस्ताव को मंजूरी मिल जाएगी. भारत की राष्ट्रीय नागरिक पंजीकरण (एनआरसी) पर पूछे गये एक सवाल के उत्तर में मोमेन ने कहा कि बांग्लादेश-भारत के बीच सामरिक रिश्ते सामान्य और बेहद अच्छे हैं. साथ ही साथ उनको ये भी लगता है कि NRC और CAB से दोनों देशों के रिश्तों में कोई बदलाव नहीं आएगा. इससे पहले बांग्लादेश के विदेश मंत्री मोमेन ने अपने व्यस्त शेडूल की वजह से पिछले हफ्ते अपनी भारत की यात्रा को रद्द कर दिया था.

NRC के बारे में पूछे गये एक दुसरे सवाल पर उन्होंने कहा कि भारत सरकार ने एनआरसी प्रक्रिया को अपना आंतरिक मामला बताया है और ऐसा नही है कि बांग्लादेश को इसके बारे में कोई जानकारी नहीं दी गयी है. भारत सरकार ने अपने इस फैसले के बाद ढाका को आश्वस्त भी किया कि इससे बांग्लादेश पर किसी भी तरह से कोई असर नहीं पड़ेगा, उनके पास जो जानकारी है उसके मुताबिक कुछ भारतीय नागरिक भी अपनी आर्थिक वजहों से मीडिएटर की मदद से अवैध रूप से बांग्लादेश में घुसे हैं. इसपर उन्होंने मीडिया रिपोर्ट में कहा- अगर हमारे नागरिकों के सिवा कोई और बांग्लादेश में घुसता है तो हम फ़ौरन उसको वापस भेज देंगे.

गौरतलब है कि पूरे भारत में इस वक्त CAB और NRC के विरोध में आन्दोलन हो रहे हैं. लेकिन भारत सरकार घुसपै’ठियों को देश से बाहर रखने के लिए और पडोसी देशों में प्रता’ड़ित अल्पसंख्यकों को भारत में शरण देने के लिए प्रतिबद्ध है. इसके लिए CAB  को मोदी सरकार की कैबिनेट ने पास किया है जिसके लिए पूरे देश में कहीं से समर्थन तो कहीं से विरोध में लगातार आवाजें उठ रही हैं. AMU और जामिया मिल्ल्लिया इस्लामियां जैसे  कुछ कॉलेजों के छात्र इस नागरिकता संशोधन बिल के खिलाफ आन्दोलन कर रहे हैं और लगातार विरोध प्रदर्शन में अबतक छात्रों की तरफ से हिंसा भी देखने को मिली है. ये आन्दोलन व्यापक स्तर पर देश भर में प्रभाव डाल रहे हैं.

यहाँ हमने घुसपैठियों शब्द का इस्तेमाल किया है इसके पीछे एक बड़ी वजह है. वो वजह ये है कि बांग्लादेश और म्यामार से शरणार्थी के तौर पर आये वो लोगो जो कई बार कई तरह की आतंकी घटनाओं में लिप्त पाए गये. हालाँकि इस विरोध के बाद पुलिस कार्रवाई कर रही है और विरोध अब भी जारी है.