तीन तलाक देने पर अब क्या मिलेगी सजा? मौलानाओं में क्यों बढ़ी तिलमिलाहट

1240

तीन तलाक पास होने के बाद एक तरफ जहाँ समुदाय के कुछ लोगों में आक्रोश देखने को मिल रहा है, वहीँ मुल्सिम महिलाएं एक दुसरे को मिठाइयाँ बाँट रही हैं, बधाई दे रही हैं. तीन तलाक के विरोध में आया ये कानून उन महिलाओं के लिए किसी वरदान से कम नही है जो इसका शिकार हुई है. जिन्हें तीन तलाक दिया गया है उन्होंने मंगलवार को इसे बड़ी जीत के तौर पर ख़ुशी मनाई.

हालाँकि अभी जो सवाल सबके मन में दौड़ रहा है वो ये है कि आखिर अब अगर किसी ने तीन तलाक दिया है इसके लिए क्या क्या सजा का प्रावधान किया गया है? महिलाओं को क्या क्या अधिकार दिए गये हैं? आइये एक नजर इसी पर डालते हैं.

1. मौखिक, लिखित या किसी अन्य माध्यम से कोई पति अगर एक बार में अपनी पत्नी को तीन तलाक देता है तो वह अपराध की श्रेणी में आएगा.

2. तीन तलाक देने पर पत्नी स्वयं या उसके रिश्तेदार ही इस बारे में केस दर्ज करा सकेंगे.

3. महिला अधिकार संरक्षण कानून 2019 बिल के अनुसार एक समय में तीन तलाक देना अपराध है इसी वजह से पुलिस बिना वारंट के तीन तलाक देने वाले आरोपी को गिरफ्तार कर सकती है.

4. एक समय में तीन तलाक देने पर पति को तीन साल तक कैद और जुर्माना दोनों हो सकता है. मजिस्ट्रेट कोर्ट से ही उसे जमानत मिलेगी.

5. मजिस्ट्रेट पीड़ित महिला का पक्ष सुने बगैर तीन तलाक देने वाले पति को जमानत नहीं दे पाएंगे.

6. तीन तलाक देने पर पत्नी और बच्चे के भरण पोषण का खर्च मजिस्ट्रेट तय करेंगे, जो पति को देना होगा.

7. तीन तलाक पर बने कानून में छोटे, नाबालिग बच्चों की निगरानी व रखावाली मां के पास रहेगी.

8. नए कानून में समझौते के विकल्प को भी रखा गया है. हालांकि पत्नी के पहल पर ही समझौता हो सकता है, लेकिन मजिस्ट्रेट के द्वारा उचित शर्तों के साथ.

तो ये है तीन तलाक के खिलाफ बनाये गये कानून का प्रावधान, अगर कोई भी इस कानून के खिलाफ जाकर तलाक देता है तो उसे गिरफ्तार कर केस दर्ज कर दिया जायेगा. हालाँकि अब मौलानाओं की तिलमिलाहट भी सामने आ रही हैं जिसमें वे इस कानून को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती देनी की धमकी दे रहे हैं तो कोई मौलाना कहा रहा है कि वे चलेंगे तो शरियत की अनुसार ही! इसी के बहाने ये मौलाना मीडिया की सुर्खियाँ बन रहे हैं,

तीन तलाक बिल पास होने के बाद आपकी क्या प्रतिक्रिया है कमेंट करके जरूर बताएं.