पाक अधिकारी ने फैलाया झूठ, उठा पर्दा तो हो गए ट्रोल

438

पूरी दुनिया में अपने झूठ के लिए बदनाम पाकिस्तान कई बार शर्मसार हो चूका है. कई बार पूरे विश्व के सामने उसके झूठ को पकड़ा गया है. आतंकवाद के मुद्दे पर पाकिस्तान पहले से ही बैकफुट पर रहता है. कुछ समय पहले भारत ने पाकिस्तान पर एयर स्ट्राइक किया था जिसमें सैकड़ों आतंकवादी मार की गए थे लेकिन अब देखिये तो जरा कैसे पाकिस्तानी सेना प्रमुख झूठ फैला रहे हैं और झूठ पकडे जाने के बाद उनका कैसे मजाक उडाया जा रहा है. आइये हम आपको पूरा मामला समझाते है।

पाकिस्तानी सेना के प्रवक्ता आसिफ गफूर ने ट्वीटर पर एक विडियो शेयर करके दावा किया कि बालाकोट एयर स्ट्राइक में भारत नाकाम हो गया था. उन्होंने भारतीय एयर फोर्स के एक रिटायर्ड ऑफिसर एयर मार्शल डेन्जिल कीलर के एक इंटरव्यू को ट्विटर पर शेयर करते हुए कहा है कि भारत का एक पूर्व एयरफोर्स अधिकारी ही बोल रहा है कि 27 फरवरी को भारत-पाकिस्तान के बीच टक्कर में भारत नाकाम रहा था.आसिफ गफूर ने इस वीडियो के साथ भारत के विंग कमांडर अभिनंदन का वीडियो भी मिक्स करके डाला है.

इस विडियो को ट्वीटर पर देखकर लोग चौंक गए और इस विडियो के बारे में पता करने लगे,सर्च करने के बाद पता चला कि वो विडियो 2015 में युटुय्ब पर डाला गया था.और उस विडियो में भारतीय एयर फोर्स के रिटायर्ड ऑफिसर एयर मार्शल डेन्जिल कीलर 1962 और 1965 के युद्ध के बारे में बता रहे हैं. 1962 में भारत और चीन के बीच युद्ध हुआ था, जबकि 1965 में भारत और पाकिस्तान के बीच लडाई हुई थी. मतलब पाकिस्तानी सेना के प्रवक्ता आसिफ गफूर ने जो विडियो डाला था वो एकदम झूठा था.

झूठ का पर्दाफाश होते ही भारत के साथ-साथ पाकिस्तान के लोगों ने भी पाकिस्तानी गफुर का जमकर मजाक उडाया. पाकिस्तान कि एक जर्नालिस्ट नायला इनायत ने ट्वीट करके कहा ‘दुनिया अभी भी नहीं जानती है कि महानिदेशक आईएसपीआर के पास अतीत में भविष्य तलाशने की विशेष प्रतिभा है‘.

मजाक उडने के बाद गफूर ने एक और ट्वीट करते हुए सफाई दी कि,” इस क्लिप के साथ छेडखानी की गई है,उनके स्टेटमेंट और उनके चेहरे के हाव-भाव इतने मिलते जुलते है कि दोनों में फर्क ही नही पडता ,विडियो में इनसेट के जरिये छेड़छाड़ की गई है , भारतीयों से कई बातों का जिक्र बेवजह किया गया है,हांलाकि इस मामले के बाद भी इंडियन एयर फोर्स के अंदरूनी माहौल में कुछ खास फर्क नही पडा है”.

दरअसल भारत ने 26 फरवरी को बालाकोट की पहाड़ियों में आतंकी संगठन जैश-ए-मुहम्मद के ठिकानों पर एयर स्ट्राइक की थी. और इस हमले में दो से ढाई सौ आतंकी मारे गए थे. भारत की इस मिशन के अगले ही दिन 27 फरवरी को पाकिस्तान ने जम्मू-कश्मीर में भारतीय सीमा पर हमले की कोशिश की थी जिसमें वो नाकाम हो गए थे. इस कोशिश में भारतीय वायु सेना के विंग कमांडर अभिनंदन पाकिस्तानी सीमा में चले गए थे.लेकिन पाकिस्तान को दवाब में आकर अभिनंदन को 48 घटों के अंदर छोडना पडा.

मिग-21 लड़ाकू विमान में सवार विंग कमांडर अभिनंदन ने पाकिस्तान के लड़ाकू विमान F-16 को मार गिराया था. इस हमले में भारत का भी एक विमान क्रेश हुआ था.और इसके बाद भी पाकिस्तान को ये समझ नही आ रहा था कि कौन सा विमान किस देश का है. पाकिस्तान ने कभी इस बात को स्वीकार नहीं किया कि भारत ने उसके देश में घुस कर हमला किया है और आतंकियों को मारा है , क्योंकि अगर वो स्वीकार करता तो इसका मतलब ये स्वीकार करना होता कि उसकी जमीन पर आतंकी कैम्प हैं . लेकिन अपने झूठ की वजह से पाकिस्तान खुद ही फंस जाता है और उसकी असलियत दुनिया के सामने आ जाती है .