बच्चों से यौन शोषण करने वाले ब्रिटिश सांसद नजीर अहमद की पीएम मोदी पर आपत्तिजनक ट्वीट

1455

कश्मीर मुद्दे पर पीएम मोदी ने पाकिस्तान को इस कदर चोट पहुंचाई है कि वहां का हर नेता तिलमिलाया हुआ है साथ ही दुनिया के अन्य देशों में रह रहे पाकिस्तानी भी अपनी फजीहत से बौखलाए हुए हैं. उनलोगों को कुछ सूझ नहीं रहा क्या करें तो भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मरने की दुआएं कर रहे हैं. ऐसे ही लोगों में से हैं नजीर अहमद.

नजीर अहमद ब्रिटिश संसद के उच्‍च सदन हाउस ऑफ लॉर्ड में आजीवन सदस्‍य नियुक्‍त किए गए पहले मुस्लिम सांसद हैं और पाकिस्तानी मूल के हैं. ब्रिटेन के हाउस ऑफ लॉर्ड में उच्‍च शिक्षित और प्रबुद्ध वर्ग के लोगों को सदस्‍य बनाया जाता है. नजीर ने अरुण जेटली की मृत्यु के बाद पीएम मोदी के लिए एक ऐसा ट्वीट किया की जिस पर विवाद खड़ा हो गया.

नजीर ने ट्वीट किया “नजीर अहमद ने ट्वीट किया, ‘विपक्ष के बीजेपी पर जादू, टोना, तंत्र-मंत्र के दावे के बीच पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी, पूर्व वित्‍तमंत्री अरुण जेटली, पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्‍वराज, मध्‍य प्रदेश के पूर्व सीएम बाबू लाल गौर, गोवा के पूर्व सीएम मनोहर पर्रिकर की पिछले एक साल के अंदर मौत हो गई. अगला नंबर नरेंद्र मोदी का है.” 

नजीर के ट्वीट के बाद विवाद होना स्वाभाविक था और विवाद हुआ भी. लोगों इसपर तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की. वैसे आपको बता दें की ब्रिटिश संसद के उच्च सदन का मुस्लिम सांसद होने के अलावा भी नजीर अहमद की एक और पहचान है. वो पहचान है बच्चों के साथ यौन शोषण करने वाले हवसी और ठरकी इंसान की. 70 के दशक में जब नजीर अहमद किशोरावस्था में थे तो उन्होंने दो बच्चों को अपनी हवस का शिकार बनाते हुए उनका यौन शोषण किया था.

द गार्जियन की रिपोर्ट के मुताबिक़ नजीर अहमद ने नजीर ने साल 1971 और 1974 में 13 साला से कम उम्र की एक लड़की और एक लड़के के साथ दो अन्य लोगों मोहम्मद फारुख और मोहम्मद तारीक के साथ मिलकर यौन शोषण किया था .उस वक़्त नजीर अहमद खुद 14 और 15 साल के थे. साउथ यॉर्कशायर पुलिस ने 201६ में उनके खिलाफ मामला दर्ज कर इस मामले में जांच शुरू की थी जो अभी भी जारी है.

जो इंसान बचपन से ही बच्चों को अपनी हवस का शिकार बनाने का आदि हो कायदे से तो उसे दूसरों की मौत की दुआ करने की बजाये खुद को ही चुल्लू भर पानी में डुबो कर मर जाना चाहिए. लेकिन चूँकि पाकिस्तानियों को शर्म आती नहीं. तर्क और ताकत के दम पर जीत हासिल कर सकते नहीं तो ऐसी उलूल जुलूल हरकतें करते रहते हैं. पीएम नरेंद्र मोदी ने दुनिया के सामने पाकिस्तान की जो दुर्गति बनाई है उसके बाद तो पाकिस्तान ऐसी बचकानी दुआएं करने के अलावा कुछ और करने के लायक बचे भी नहीं है. तो नजीर अहमद, आप दुआएं करते रहिये. हमारे भारत में कहावत है की गिद्धों के मनाने से गाय नहीं मरा करती.