CAA विरोधी प्रदर्शन में पहुंचे नसीरुद्दीन शाह, महिलाओं को भड़काते हुए कहा…

1467

फिल्म अभिनेता नसीरुद्दीन शाह आजकल फिल्मों में नज़र नहीं आते. इसकी दो वजहें हो सकती है. पहली वजह तो ये कि या तो उन्हें फ़िल्में नहीं मिल रही और दूसरी वजह ये कि उन्हें सरकार के खिलाफ प्रोपगैंडा फैलाने से फुर्सत नहीं मिल पा रही. सरकार के खिलाफ प्रोपगैंडा फैलाना उनका पार्टटाइम जॉब है. जब 2019 का लोकसभा चुनाव होने वाला था तब वो देश विरोधी NGO के साथ मिल कर डर का माहौल है और मुसलमान खतरे में है जैसे प्रोपगैंडा फैलाते थे. अब जब मोदी दुबारा से चुनाव जीत गए तो नसीरुद्दीन शाह CAA और NPR के मुद्दे पर सरकार के खिलाफ प्रोपगैंडा फैलाने में व्यस्त हो गए.

दिल्ली के शाहीन बाग़ की तर्ज पर बेंगुलुरु के बिलाल बाग़ में भी CAA विरोधी प्रदर्शन चल रहा है. उसी प्रदर्शन में नसीरुद्दीन शाह पहुंचे और लोग को आगे बढ़ कर अपना हक़ छीन लेने के लिए उकसाया. अब ये तो वही जाने कि किस हक़ की बातें कर रहे हैं? बिलाल बाग़ का जो वीडियो वायरल हो रहा है उसमे औरतों को संबोधित करते हुए नसीरुद्दीन शाह कहते हैं- औरत वो है जो हर सुंदर कला को और भी सुंदर बनाती हैं. मर्दों की तरह मेहनत वो रात-दिन करती हैं, मगर फिर भी ना कुछ करने की तोहमत लगाई जाती है. दिल में जो डर का किला है, वो तोड़ दो अंदर से तुम, एक ही झटके में अपने आप ही वो ढह जाएगा. आओ मिलकर हम बढ़ें, अधिकार अपने छीन लें. काफिला अब चल पड़ा है. अब न रोक पाएगा.’

अब ये तो नसीरुद्दीन शाह ही बता पायेंगे कि CAA से उनकी कौम के किस तरह के अधिकारों का हनन होता है. जनगणना के लिए एनपीआर से उनकी कौम के किस अधिकार का हनन होता है. आने वाले दिनों में कई राज्यों में चुनाव है. जिस तरह लोकसभा चुनाव के वक़्त नसीरुद्दीन शाह प्रोपगैंडा फैलाने के पार्टटाइम जॉब पर लग गए थे. उसी तरह विधानसभा चुनावों को देखते हुए उन्होंने अपना पार्टटाइम जॉब फिर से शुरू कर दिया है.