मन की बात में बोले मोदी: कहा देश के लिए जरूरी था ये सब करना, जानिए और क्या कहा मोदी ने ?

841

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी कोरोना से लड़ने के लिए जी जान से लगे हुए हैं. ताकि देश को इस महामारी से बचाया जा सके. इसलिए मोदी ने कोरोना वॉरियर्स से बात करते हैं और लोगों का हौसला अफज़ाई करते हुए नजर आ रहे है. पहले उन्होने मीडिया के लोगों से बात की फिर रेडियो के आरजे से उसके बाद हॉस्पिटल की नर्स से और सबसे कोरोना के बारे में हालचाल लिए और उनसे पूछा कि किसी प्रकार की कोई दिक्कत तो नही हो रही है. मोदी ने लोगों को बताया की कैसे कोरोना से लडा जाये और लोगो से बार-बार आग्रह कर रहें हैं कि लोग अपने घर पर ही रहैं.

आज नरेन्द्र मोदी ने मन की बात कार्यक्रम किया और एक बार फिर लोगों से मुखातिब हुए. आज मोदी ने देशवासियों को संबोधित करते हुए कहा कि ‘वे देशवासियों से क्षमा मांगते हैं, क्योंकि कोरोना वायरस से लड़ने के लिए कुछ ऐसे फैसले लेने पड़े हैं जिनसे देशवासियों को तकलीफ उठानी पड़ रही है, पीएम मोदी ने गरीबों से विशेषकर क्षमा मांगी है.’

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देशवासियों को संबोधित करते हुए कहा कि ‘कुछ फैसलों की वजह से आपकी जिंदगी में परेशानी आ गई है. गरीबों को खास दिक्कत हुई है. पीएम मोदी ने कहा कि मुझे मालूम है कि आपमें से कुछ लोग हमसे नाराज भी होंगे. लेकिन कोरोना से लड़ने के लिए ये कदम जरूरी था. पीएम मोदी ने कहा कि कोरोना वायरस इंसान को मारने की जिद ले बैठा है. उन्होंने कहा कि लॉक डाउन आपको बचाने के लिए किया गया है.’

पीएम मोदी ने कहा कि कोरोना से लड़ने के लिए इस तरह के कड़े कदम उठाने पड़े हैं ताकि हम अपने देशवासियों की रक्षा कर सकें. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आगे कहा कि वे समझते हैं कि कोई भी जान बूझकर कानून नहीं तोड़ना चाहता है. लेकिन कुछ लोग ऐसा कर रहे हैं. पीएम ने कहा कि वे ऐसे लोगों से कहना चाहते हैं कि अगर वे लॉकडाउन का पालन नहीं करते हैं तो इस बीमारी का पालन करना मुश्किल होगा. उन्होंने कहा कि लॉकडाउन को न मानने वाले लोग अपनी जिंदगी के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं.

मोदी ने एक बार फिर से देश की जनता से अपील की है कि वो लोग इस बिमारी से लड़ने के लिए अपने घर में रहे. और लॉकडाउन का पालन करे. जिससे हम लोग इस बिमारी से लड़ सकें और अपने आपको महफूज़ रख सकें.