लॉकडाउन के दौरान शुरू हो रहे रमजान को लेकर केंद्रीय मंत्री नकवी ने बोर्ड वक्फ के अधिकारियों से की है ये अपील!

कोरोना के लगातार बढ़ रहे प्रकोप के चलते लॉकडाउन को 3 मई तक के लिए आगे बढ़ा दिया गया है. पीएम मोदी ने देश को संबोधित करते हुए पहले तो लॉकडाउन के मायने बताये और फिर इसे आगे बढ़ाना ही सही समझा. पीएम मोदी ने आगे कहा कि अगर लॉकडाउन को न जारी किया गया होता तो स्थिति और भी बढ़ा रूप ले सकती थी. पीएम मोदी एक बार नहीं बल्कि कई बार लोगों से ये अपील कर चुके हैं कि वह घरों में ही रहें और आसपास के लोगों से मिले जुले न.

जानकारी के लिए बता दें 3 मई तक बढ़ाये गये लॉकडाउन के बाद सरकार ने पहले से ज्यादा सख्ती करते हुए इसे पालन कराने की जिम्मेदारी प्रशासन को दी है. वहीँ उत्तरप्रदेश में तो योगी सरकार ने पुलिस के साथ गलत व्यवहार करने वालों रासुका लगाने का ऐलान कर दिया है. लॉकडाउन के बीच 24 अप्रैल से रमजान शुरू हो रहे हैं. इसी बीच केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री और सेंट्रल वक्फ काउंसिल के चेयरमैन मुख्तार अब्बास नकवी ने गुरूवार को बड़ी बात कही है.

नकवी ने सभी धार्मिक, सार्वजनिक और व्यक्तिगत स्थलों पर लॉकडाउन का पालन कराने के लिए मुस्लिम समाज के लोगों से अपील की है कि वह घर में ही रहकर इबादत करें. गुरूवार को 30 से ज्यादा राज्य वक्फ बोर्ड के चेयरमैन एवं वरिष्ठ अधिकारियों से वीडियो कांफ्रेंस कर नकवी ने ये अपील की. उन्होंने कहा कि इसके प्रति लोगों को जागरूक करने की अपील है.

गौरतलब है कि देश के विभिन्न वक्फ बोर्ड के अंतर्गत 7 लाख से ज्यादा पंजीकृत मस्जिदें, ईदगाह, इमामबाड़े और दरगाह एवं धार्मिक स्थल आते हैं. इसी के साथ नकवी ने आगे कहा कि हमें स्वास्थ्यकर्मियों, प्रशसनिक अधिकारियों , सुरक्षाबलों और सफाई कर्मचारियों का सहयोग करना चाहिए जोकि अपनी जान हथेली पर रखकर हमारे स्वास्थ्य के लिए काम कर रहे हैं. साथ ही उन्होंने ये भी कहा है कि क्वारंटाइन, आइसोलेशन सेंटरों को लेकर फैलाई जा रही अफवाहों को भी ध्वस्त करना चाहिए. उन्होंने आगे यही कहा कि रमजान के पवित्र महीने में सरकार द्वारा दिए गये निर्देशों का पालन कर अपनी भूमिका सुनिश्चित कराएं.