महाराष्ट्र में सरकार बनाने के बाद शिवसेना को लगा पहला झटका!

8853

महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के नतीजे सामने के लगभग महीने भर बाद आख़िरकार कांग्रेस, शिवसेना और एनसीपी ने मिलकर सरकार बना ही ली. हालाँकि बहुमत तो बीजेपी और शिवसेना के गठबन्धन को मिला था. इसके बाद दोनों के बीच विवाद हुआ और दोनों ने सरकार बनाने से इनकार कर दिया. महाराष्ट्र में सरकार बनने के बाद अब शिवसेना को लग है झटका!

दरअसल शिवसेना के कई कार्यकर्ता इस बात से नाराज है कि जिस पार्टी के खिलाफ पार्टी सालों से लड़ती आ रही थी उसी के साथ शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे ने मिलकर सरकार बना ली, मुख्यमत्री की कूर्सी के लिए! इसी नाराजगी में कई कार्यकर्ताओं और नेताओं ने पार्टी को अलविदा कहना शुरू कर दिया है. मुंबई के धारावी में करीब 400 शिवसैनिकों ने पार्टी छोड़ दी है. बीजेपी में शामिल होने वाले एक कार्यकर्ता रमेश नदेशन ने कहा कि शिवसेना ने भ्रष्ट और हिंदू विरोधी दलों के साथ हाथ मिला लिया है.

दरअसल मुंबई एक धारावी इलाके इन कम से कम चार सौ कार्यकर्ताओं इन पार्टी छोड़ने का एलान कर दिया है और इसके साथ उन्होंने बीजेपी की सदस्यता भी ले ली. ये लोग इस बात से नाराज है कि शिवसेना ने कांग्रेस के साथ गठबंधन क्यों किया? बीजेपी के साथ सरकार बनाने के लिए जनता ने बहुमत दिया था लेकिन उस बहुमत का सम्मान न करते हुए विरोधी पार्टियों के साथ, जिनका खुद बाला साहेब विरोध करते थे. उनके साथ मिलकर गठबंधन कर लिया .

वैसे साफ़ तौर पर बहुमत बीजेपी और शिवसेना को मिला था लेकिन ढाई साल के मुख्यमंत्री पद को लेकर शिवसेना अड़ गयी और बीजेपी ने भी मुख्यमंत्री पद देने से इंकार कर दिया. इसके बाद बीजेपी ने एनसीपी की मदद से सरकार बनाने की कोशिश की लेकिन बहुमत साबित करने से पहले ही बीजेपी की सरकार गिर गयी. अब शिवसेना के कार्यकर्ताओं का पार्टी छोड़ना क्या शिवसेना के लिए बुरे संकेत है?