तबलीगी जमातियों पर जमकर बरसे केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी, कोरोना फैलाने वाले अब खुद को…

कोरोना ने भारत ही नहीं बल्कि दुनियाभर के देशों को अपने शिकंजे में ले लिया है. अमेरिका में इस समय कोरोना के करीब 10 लाख मरीज हो गये हैं और हर दिन हजारों की संख्या में लोग जान दे रहे हैं. वहीँ भारत में भी लॉकडाउन के बाद कोरोना के मरीजों का आंकड़ा 29 हजार के पार हो गया है. भारत में लॉकडाउन के 3 मई तक लिए बढ़ा दिया गया है लेकिन अभी के हालातों को देखते हुए यही कयास लगाये जा रहे हैं कि लॉकडाउन ओर बढ़ाया जा सकता है.

जानकारी के लिए बता दें भारत में कोरोना के अधिकतर मामले दिल्ली के निजामुद्दीन के मरकज के कार्यक्रम में शामिल हुए जमातियों से जुड़े हुए हैं. मरकज के इस कार्यक्रम के शामिल हुए जमाती देश के अलग-अलग हिस्सों में फ़ैल गये जिसके बाद उनके संपर्क में आने के बाद से ये संक्रमण फैलता गया. वहीँ इतना ही नही सरकार ने इन लोगों से अपील करते हुए यही कहा कि मरकज से जुड़े लोग सामने आ जायें जिससे ये संक्रमण ज्यादा नही फैले.

इतना नही जमात से जुड़े कोरोना संदिग्धों को जब डॉक्टरों और पुलिस की टीम लेने पहुंची तो कई जगह इन टीमों के साथ मारपीट और बुरे बर्ताव किये गये. अब तबलीगी जमात से जुड़े लोग मदद करके खुद को कोरोना योद्धा कह रहे हैं. अब तबलीगी जमात से जुड़े लोगों को लेकर केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने इन संगठन पर निशाना साधा है. उन्होंने कहा है कि कोरोना फैलाने वाले अब खुद को कोरोना योद्धा बता रहे हैं. नकवी ने साथ ही दावा किया है कि यह हर भारतीय मुसलमान को तबलीगी साबित करने की “तबलीगी साजिश है”

गौरतलब है कि मुख्तार अब्बास नकवी ने ट्वीट करते हुए लिखा ”भारत में कोरोना फैलाने वाले तबलीगी अपने आप को “कोरोना वारियर्स” बता रहे हैं. कमाल है. तबलीगी अपने गुनाहों पर शर्म करने के बजाय लाखों कोरोना योद्धाओ का अपमान कर रहे हैं. इसे कहते हैं “चोरी और सीनाजोरी”.” उनके अनुसार बेशक कुछ राष्ट्रभक्त मुसलामनों ने जरुरतमंदों को प्लाज्मा दिया है पर उन्हें तबलीगी कहना ठीक नहीं है.

जिसके बाद नकवी ने दूसरे ट्वीट में कहा कि “बेशक कुछ राष्ट्रभक्त मुसलमानों ने जरूरतमंदों को प्लाज्मा दिया है पर उन्हें तब्लीगी कहना ठीक नहीं. हर हिंदुस्तानी मुसलमान को तब्लीगी साबित करने की “सुनियोजित घटिया तब्लीगी साजिश है.”